Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse

हर एक टीम के लिए बल्लेबाजी की शुरुआत काफी अहम रहती है. अगर टीम को अच्छी शुरुआत मिलती है तो मैच का रोमांच बढ़ जाता है. इसके साथ ही टीम के लिए मैच जीतने या बड़ा टारगेट खड़ा करने में आसानी होती है. इंटरनेशनल क्रिकेट में अच्छी शुरुआत के लिए टीम को हमेशा बढ़िया ओपनर्स की तलाश होती है.

हर एक टीम के पास अपने स्पेशलिस्ट ओपनर्स रहते हैं. क्रिकेट के तीनों ही प्रारूपों में ओपनर्स का काफी अहम रोल होता है. क्रिकेट जगत इतिहास में अभी तक कई सारे बढ़िया ओपनिंग बल्लेबाज आए हैं. क्रिकेट इतिहास में ऐसे में कुछ मौके आए हैं, जब ओपनर्स ने अपने दम पर टीम को मैच जिताएं हैं.

वहीं कुछ ऐसे भी मैच रहे हैं, जब टीम के दोनों ओपनर बल्लेबाज के तौर पर शुरू में किसी खिलाड़ी ने शानदार प्रदर्शन किया, लेकिन बाद में उस खिलाड़ी की फॉर्म ने उसका साथ छोड़ दिया. जिसके कारण उस खिलाड़ी का क्रिकेट करियर ज्यादा आगे नहीं बढ़ सका. इसी क्रम में आज हम आपको उन 5 ओपनर खिलाड़ियों के बारे में बताएँगे जिन्होंने अपने करियर के शुरूआती मैचों में धमाल करने के बाद ज्यादा दिनों तक अपना यह कमाल जारी नहीं रख सके. जिससे उन्हें टीम से बाहर ह्योना पड़ा. तो चलिए शुरू करते हैं.

5. अभिनव मुकुंद

भारतीय टीम के प्रतिभाशाली ओपनर बल्लेबाज अभिनव मुकुंद का क्रिकेट करियर बड़ा ही उतार चढ़ाव रहा है. घरेलू क्रिकेट में निरंतर बेहतरीन खेल के बाद अभिनव मुकुंद को 2011 में बतौर ओपनर भारतीय टीम में जगह मिली थी. मुकुंद उस समय वेस्टइंडीज दौरे के लिए चुने गए थे, जहाँ उन्होंने शानदार खेल भी दिखाया था.

हालाँकि इसके बाद वो इंग्लैंड दौरे में बुरी तरह फ्लॉप हो गए. जिसके बाद वो लगातार टीम से बाहर रहे थे. मुकुंद ने फिर एक बार 2017 में मुरली विजय की जगह टीम वापसी की. इस दौरान उन्होंने दो टेस्ट खेले. पर इसके बाद खराब प्रदर्शन के कारण टीम में उनका चयन नहीं हुआ.

टेस्ट क्रिकेट में बतौर ओपनर लगातार फ्लॉप होने के बाद आपको ज्यादा मौके नहीं मिलते क्योंकि सलामी बल्लेबाज के ख़राब प्रदर्शन के कारण टीम के मध्यक्रम के बल्लेबाजों को ज्यादा दबाव में खेलना पड़ता है. अभिनव मुकुंद ने भारतीय टीम के लिए  अब तक 14 पारियों में सिर्फ 320 रन बनाए हैं. इसमें दो अर्धशतकीय पारियां शामिल है. इस दौरान उनका उच्चतम स्कोर 81 रन रहा था.

Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse