Ben Stokes
Ben Stokes And Joe Root

इंग्लैंड टीम के कप्तान इयोन मोर्गन (Eoin Morgan) ने बेन स्टोक्स को लेकर बड़ी प्रतिक्रिया दी है. जो रूट ने इंग्लैंड टीम की टेस्ट कप्तानी को अचानक छोड़ दिया. जिसके बाद से ही नए कप्तान की खोज शुरु हो गई. इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड की तरफ से अगले सप्ताह नए टेस्ट कप्तान की घोषणा हो सकती है. लेकिन, उससे पहले लिमिटेड ओवर टीम के कप्तान इयोन मोर्गन ने इशारों ही इशारों में नए टेस्ट कप्तान का नाम बता दिया है. आइये जानते हैं कौन है वह खिलाड़ी?  जिसको इंग्लैंड टेस्ट टीम की कमान सौंपी जा सकती है?

Eoin Morgan ने बेन स्टोक्स को बताया शानदार लीडर

Eoin Morgan press conference
Eoin Morgan

जो रूट ने इंग्लैंड टीम की टेस्ट कप्तानी को छोड़ कर सबको चौंका दिया था. उनके ऊपर मानसिक दबाव बढ़ता जा रहा था. भले ही उनकी बल्लेबाजी का प्रदर्शन अच्छा रहा हो. लेकिन, वह लगातार सीरीज हार रहे थे. एशेज सीरीज के बाद वेस्टइंडीज के हाथों टेस्ट सीरीज में हार का समना करना पड़ा. यही कारण रहा होगा जिसके चलते उन्होंने टेस्ट कप्तानी को छोड़ दी. ऐसे में टेस्ट टीम के उपकप्तान बेन स्टोक्स (Ben Stokes) को ही फुलटाइम टेस्ट कप्तान बनाया जा सकता है. जिसको लेकर इयोन मोर्गन (Eoin Morgan) ने कहा कि,

‘स्टोक्स टेस्ट टीम के उप-कप्तान हैं और रूट के गैरहाजिरी में वही टीम का नेतृत्व करते थे. बेन स्टोक्स एक शानदार खिलाड़ी और लीडर है, उन्हें कप्तान के आर्मबैंड की जरूरत नहीं है.मुझे लगता है कि कप्तानी को ठुकराना मुश्किल होगा. यह एक चुनौतीपूर्ण स्थिति है. निश्चित रूप से परिस्थितियां सही होनी चाहिए, लेकिन ज्यादातर लोग जो रेड-बॉल क्रिकेट को आगे ले जाना चाहते हैं, वे इसे निश्चत रूप से आगे बढ़ाना चाहेंगे’

टेस्ट कप्तानी में फेल रहे जो रूट

joe root
Joe Root

इंग्लैंड टीम के पूर्व टेस्ट कप्तान जो रूट (Joe Root)एक शानदार बल्लेबाज हैं. उन्होंने अपनी बल्लेबाजी से विश्वभर में लोहा मनवाया है. साल 2017 में एलिस्टेयर कुक के कप्तानी छोड़ने के बाद उन्हें टेस्ट टीम की जिम्मेदारी दी गई थी. रूट बीते 5 साल से इंग्लैंड टेस्ट टीम के कप्तान रहे. लेकिन वह अपनी कप्तानी में कोई खास कमाल नहीं दिखा पाए.

वहीं रूट की कप्तानी में खेले गए पिछले 17 टेस्ट में से इंग्लैंड को सिर्फ 1 मैच में ही जीत मिली. इसी वजह से उन्होंने कप्तानी छोड़ने का फैसला लिया होगा. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एशेज सीरीज में मिली हार के बाद जमकर उनकी आलोचना हो रही थी. रूट का प्रदर्शन एक बल्लेबाज के तौर पर पिछले लंबे समय से अच्छा था लेकिन टेस्ट में कप्तान के तौर पर फ्लॉप साबित हुए.