GettyImages 82475355
2 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

2. राजिंदर गोयल

untitled 1 copy

अगर उन दुर्भाग्यपूर्ण खिलाड़ियों की सूची बनाई जाये जो सही समय में टीम में इंट्री करते तो दिग्गज खिलाड़ियों में शामिल होते तो उसमें राजिंदर गोयल का नाम सबसे पहले आता है. राजिंदर गोयल अपने जबरदस्त प्रदर्शन के बाद भी राष्ट्रीय टीम के लिए टेस्ट मैच नहीं खेल पायें. वह अपने समय के सबसे सबसे प्रतिभाशाली स्पिनर में एक थे लेकिन पहले से मौजूद बड़े स्पिनरों की वजह से उन्हें कभी भी भारतीय एकादश में स्थान नहीं मिल पाया.

इसके बावजूद गोयल लगातार रणजी ट्रॉफी खेलते रहे और जब उन्होंने संन्यास लिया तो रणजी इतिहास में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज थे. उन्होंने अपने पूरे रणजी करियर में 637 विकेट हासिल लिए और दूसरे स्थान पर काबिज एस. वेंकटराघवन के खाते में 530 विकेट ही हैं. राजिंदर गोयल के इस कीर्तिमान का टूटना नामुमकिन ही लगता है क्योंकि किसी भी खिलाड़ी के लिए निरंतर अच्छा प्रदर्शन करना काफी मुश्किल काम होता है.

इस कीर्तिमान को टूटने में एक और बाधा है, जब कोई खिलाड़ी रणजी ट्रॉफी में अच्छा प्रदर्शन करता है तो उसे भारतीय टीम में जगह मिल जाती है और उसके बाद वो शायद ही कभी रणजी ट्रॉफी की तरफ ध्यान देता है. इसलिए राजिंदर गोयल का यह कीर्तिमान निकट भविष्य में टूटना नामुनकिन ही लगता है.

2 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse