जब जब दिनेश कार्तिक के नाम का जिक्र होगा, तब तब निदाहास ट्रॉफी को जरुर याद किया जाएंगा. वाकई में बांग्लादेश के विरुद्ध दो साल पहले दिनेश कार्तिक फाइनल में जो पारी खेली थी, वह आज तक भारतीय फैंस भुला नहीं पाए है. भारतीय छोड़िये बांग्लादेशी फैंस को भी आज तक वह हार बड़ी खटकती होगी.

भारत को मिला था 167 का लक्ष्य

फाइनल में बांग्लादेश की टीम ने भारत के सामने 167 रनों का लक्ष्य रखा था. मैच में जब दिनेश कार्तिक बल्लेबाजी करने के लिए उस समय मैच टीम इंडिया के हाथों से निकल रहा था और टीम को सीरीज जीतने के लिए 12 गेंदों में 34 रनों की आवश्यकता थी.

अंतिम गेंद पर भारत को मैच जीतने के लिए पांच रनों की जरूरत थी और कार्तिक ने आखिरी गेंद पर छक्का लगाकर इतिहास रच दिया. फाइनल में दिनेश कार्तिक ने बेहद ही आक्रामक 8 गेंदों में अविश्वसनीय 29 रनों की नाबाद पारी खेली थी. अपनी पारी में कार्तिक ने दो चौके और तीन छक्के भी जड़े थे.

कर रहा था इसी मौके का इंतजार

हाल ही में दिनेश कार्तिक को स्टार स्पोर्ट्स के एक शो माइंड मास्टर में देखा गया. जहां दिनेश ने फाइनल की पारी को याद करते हुए कहा, “मैं ऐसे ही किसी एक पल के इंतजार में था जहां अपने आप को साबित कर सकूं. मैंने ऐसे किसी बड़े मौके के लिए काफी प्रैक्टिस की थी. जब असली मौका आता है जिससे आपको गुजरना होता है तो ऐसे मंच पर यह काफी रोमांचक होता है. ऐसी काफी चीजें ऑटो मोड में अपने आप ही हो जाती हैं.”

कार्तिक ने आगे कहा, “जैसा कि आप इसको लेकर काफी ज्यादा प्रैक्टिस करते हैं तो जब ऐसे मंच पर आप होते हैं तो पता होता है कि किया करने की जरूरत है. मुझे भरोसा था कि हम यह मैच जीत लेंगे. दो ओवर में जीत के लिए 34 रन की जरूरत थी और मैं तब भी यही सोच रहा था कि मुझे टीम के लिए यह मैच जीतना है.”

AKHIL GUPTA

क्रिकेट...क्रिकेट...क्रिकेट...इस नाम के अलावा मुझे और कुछ पता नहीं हैं. बस क्रिकेट...