भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व विश्व विजेता कप्तान महेंद्र सिंह धोनी एक बार फिर से चर्चा का मुख्य केंद्र बन गये हैं. दरअसल पूर्व भारतीय कप्तान में एम एस धोनी ने इस बार स्वयं ही अपने आप को मुसीबतों में घेर लिया हैं. असल बात यह हैं, कि महेंद्र सिंह धोनी की परेशानी की वजह और कोई नहीं, बल्कि फिटनेस हैं. आप सोच रहे होगे, कि आखिर बात क्या हैं और क्यों धोनी चर्चा का अहम केंद्र बन गये हैं. चलिए हम आपको हकीकत से रूबरू करवाते हैं. एक साथ दो-दो कंपनियों को एंडोर्स करने के जुर्म में दिल्ली उच्च न्यायालय ने महेंद्र सिंह धोनी को एक नोटिस भेजा हैं.

एक साथ दो दो एंडोर्समेंट 

 

(Photo by : Getty Images)

दरअसल महेंद्र सिंह धोनी ने काफी समय से स्पोर्ट्सफिट कंपनी के साथ अनुबंध किया हुआ और इस अनुबंध के तहत धोनी और किसी स्पोर्ट्स कंपनी या फिटनेस ट्रेनिंग सेंटर का प्रचार या एंडोर्स नहीं कर सकते, जब तक उनका स्पोर्ट्सफिट कंपनी के साथ करार खत्म नही हो जाता. मगर धोनी ने सभी नियमों का उल्लंघन करते हुए अपनी खुद की कंपनी फिट 7 का एंडोर्स किया और इसके बाद स्पोर्ट्सफिट को उनके ऊपर केस करने के लिए मजबूर होना पड़ा.

दिल्ली हाई कोर्ट ने हाल में ही महेंद्र सिंह धोनी के खिलाफ एक नोटिस जारी किया हैं और इस नोटिस के जरिये दिल्ली हाई कोर्ट ने महेंद्र सिंह धोनी से यह अपील की हैं, कि वह फिट 7 जिम और फिटनेस चेन के लिए कोई एंडोर्ससिंग नहीं कर सकते. आप सभी की जानकारी के लिए बता दे, कि महेंद्र सिंह धोनी ने हाल में ही स्पोर्ट्सफिट वर्ल्ड प्राइवेट लिमिटेड {एसपीएल} के लिए एक्सक्लूसिव एंडोर्समेंट किया था. दिल्ली हाई कोर्ट इस केस की अगली तारीख सितम्बर, 13 रखी गयी हैं.

एसपीएल के स्टेकहोल्डर हुए नाराज़ 

(Photo by : Getty Images)

स्पोर्ट्सफिट वर्ल्ड प्राइवेट लिमिटेड {एसपीएल} के स्टेक होल्डर विकास अरोरा ने धोनी की इस बात को लेकर काफी नाराजगी व्यक्त की हैं. आप सभी को बता दे, कि एसपीएल में विकास अरोरा के 33% शेयर लगे हुए हैं. विकास अरोरा ने स्पोर्ट्सफिट वर्ल्ड प्राइवेट लिमिटेड {एसपीएल} में 22 करोड़ रुपए निवेश किये थे और उन्होंने पूर्व भारतीय कप्तान एमएस धोनी के विरुद्ध कोर्ट में अपिल दर्ज की हैं, कि सभी सबूत होने के बाद भी कंपनी के डायरेक्टर धोनी के खिलाफ जाने से कतरा रहे हैं.

एसपीएल में 33 प्रतिशत की हिस्सेदारी रखने वाले विकास ने महेंद्र सिंह धोनी के खिलाफ दिल्ली और हरियाणा हाईकोर्ट में भी शिकायत दर्ज करवाई हैं. एमएस धोनी ने जो नियमों का उलंघन किया हैं, उसके कारण कंपनी को पूरे फायदे नहीं मिल सकेगा.

कंपनी के डायरेक्टर का भी आया बयान 

 

(Photo by : Getty Images)

स्पोर्ट्सफिट वर्ल्ड प्राइवेट लिमिटेड {एसपीएल} के डायरेक्टर संजय पांडे के अनुसार, ”विकास द्वारा दर्ज की गई सभी शिकायते गलत हैं और हाईकोर्ट ने भी उनके शिकायत दर्ज कराने के तरीके पर सवालियां निशान खड़े किये हैं. यह शिकायत बेवजह हमे धमकाने और महेंद्र सिंह धोनी जैसे बड़ी शख्सियत का नाम विवाद में लाने के लिए की गयी हैं. यह शिकायत करने का मकसद यह भी हो सकता हैं, कि कंपनी विकास पर लगाये गये सभी आरोप वापस ले ले, क्योंकि विकास अरोरा पर कई नियम तोड़ने और गैरक़ानूनी काम करने के संगीन आरोप लग चुके हैं.”

(Photo credit should /Getty Images)

AKHIL GUPTA

क्रिकेट...क्रिकेट...क्रिकेट...इस नाम के अलावा मुझे और कुछ पता नहीं हैं. बस क्रिकेट...

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *