dhoni getty

दुनिया के अगर सफलतम कप्तानों की बात की जाए,तो उसमें एमएस धोनी का नाम प्रमुखता से लिया जाएगा। उन्होंने अपने कैरियर के दौरान भारतीय क्रिकेट के साथ-साथ विश्व क्रिकेट को भी बुलंदियों में पहुंचाया है। वो दुनिया के इकलौते ऐसे कप्तान हैं जिनके नाम आईसीसी की सभी ट्रॉफियों को जीतने का रिकॉर्ड है। इतना ही नहीं वो दुनिया के सबसे बेहतरीन फिनिसर भी है। यह हम नहीं बल्कि आंकड़े कह रहे हैं। लक्ष्य का पीछा करना और मैच जीतना धोनी का जूनून हैं। धोनी के इसी जूनून की वजह से उन्हें बेस्ट फिनिसर का खिताब दिया गया।

पहले नंबर पर काबिज हैं धोनी 

Ms Dhoni Photos Ms Dhoni Hd Photos 5

कप्तानी छोड़ने के बाद भी अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में धोनी की बदशाहत बरकरार है। दुनिया के सबसे टॉप फिनिसर की लिस्ट में धोनी पहले स्थान पर काबिज हैं। उन्होंने लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत को 102 मैच जीत दिलाई है,जिसमें उन्होंने 102.88 की औसत से 2572 रन बनाए। जबकि दूसरे स्थान पर भारतीय कप्तान विराट कोहली हैं। कोहली को भी विश्व के मैच जिताउ प्लेयरों में गिना जाता है।

उन्होंने लक्ष्य का पीछा करते हुए 75 मैच मुकाबले जिताए हैं। इन मैचों में कोहली ने  95.04 की औसत से 4372 रन बनाए हैं। तीसरे स्थान पर इंग्लैंड के जो रूट हैं। रूट ने अपनी टीम को 30 मैच में 1306 रन बनाए कर टीम को जीत दिलाई, हालांकि इस मामले में धोनी का कोई जवाब नहीं हैं। माइकल बेवन और एबी डीविलियर्स क्रमशः चौथे और पांचवे स्थान पर बने हुए हैं।

अलोचकों को मिला करारा जवाब

MS Dhoni Getty

दुनिया के टॉप फिनिसर के आंकड़े आने के बाद यह तो साफ हो गया है कि धोनी अभी भी उतने शानदार बल्लेबाज हैं,जितने वो पहले थे। क्योंकि कुछ समय से उनकी बल्लेबाजी को लेकर अलोचनाओं का बाजार गर्म था। लोग यहां तक कहने लगे थे कि धोनी अब अच्छे फिनिसर नहीं है। लेकिन धोनी कितने अच्छे फिनिसर हैं इस बात की गवाही आंकड़े खुद दे रहे हैं। इसके बाद धोनी के अलोचकों का जवाब जरूर मिल गया होगा।

श्रीलंका के खिलाफ धोनी की यादगार पारी

hqdefault

श्रीलंका के खिलाफ धोनी की यादगार पारी को कौन भूल सकता है। 31 अक्टूबर 2005 में जयपुर के सवाईमान सिंह क्रिकेट स्टेडियम में हुए मैच में धोनी ने अपने हेलीकॉप्टर शॉट से तूफान ला दिया था। पहले बल्लेबाजी करने उतरी श्रीलंका टीम ने भारत को जीत के लिए 298 रन का लक्ष्य दिया। इस मैच में श्रीलंका की तरफ से सबसे ज्यादा ओपनर कुमार संगकारा ने 138 रन नाबाद बनाए थे।

जवाब में उतरी भारतीय टीम को 7 रन के स्कोर में ही पहला झटका सचिन तेंदुलकर के रूप में लगा। हालांकि तीसरे क्रम में बल्लेबाजी करने के लिए कप्तान राहुल द्रविड़ ने महेंद्र सिंह धोनी को मौका दिया। जिस धोनी ने  ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की थी। धोनी ने महज 145 गेंदों में 15 चौके व 10 छक्के जड़ते हुए नाबाद 183 रन की पारी खेल डाली और टीम इंडिया को बेहतरीन जीत दिला दी।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *