DC

सोमवार को चेन्नई सुपर किंग्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच एक हाईवोल्टेज मुकाबला खेला गया। मैच जीतकर DC ने प्वॉइंट्स टेबल की बादशाहत हासिल की और टॉप-2 में अपनी जगह पक्की कर ली। मगर इस मैच का आखिरी ओवर बहुत ही रोमांचक रहा। मगर ओवर की दूसरी ही गेंद ऑफ स्टंप के बाहर फेंकी। इसे ऑन फील्ड अंपायर ने नो बॉल दिया, लेकिन जब मामला थर्ड अंपायर तक पहुंचा, तो उन्होंने इसे वाइड करार दिया। इस अंपायरिंग के मामले ने तूल पकड़ा और सुनील गावस्कर ने भी प्रतिक्रिया व्यक्त की।

क्या है पूरा मामला?

चेन्नई सुपर किंग्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच रोमांचक मैच खेला गया। मैच के आखिरी ओवर में जीत के लिए DC को 6 रनों की दरकार थी और CSK के सबसे अनुभवी तेज गेंदबाज ड्वेन ब्रावो ओवर डालने आए। ओवर से पहले एमएस धोनी ने ब्रावो के साथ बातचीत की। मगर ओवर की दूसरी ही गेंद ब्रावो ने ऑफ स्टंप के बाहर फेंक दी। वह गेंद पिच पर भी नहीं उतरी थी। ऐसे में दिल्ली कैपिटल्स के खिलाड़ियों ने गेंद से 2 अतिरिक्त प्राप्त करने के लिए जल्दी से एक सिंगल रन के लिए दौड़ लगा दी।

लाइन अंपायर ने नो बॉल का इशारा किया, क्योंकि गेंद पिच के बाहर उतरी थी, मगर सभी उस वक्त हैरान रह गए जब थर्ड अंपायर से  परामर्श मांगे जाने के बाद फैसला बदल दिया गया। नियमों के अनुसार, यदि गेंद पूरी तरह या आंशिक रूप से पिच से बाहर निकलती है, तो अंपायर नो-बॉल का संकेत देने के लिए बाध्य है। थर्ड अंपायर के इस फैसले पर सोशल मीडिया पर भी काफी बवाल हुआ।

सुनील गावस्कर ने दी प्रतिक्रिया

DC

थर्ड अंपायर द्वारा ड्वेन ब्रावो की उस डिलिवरी को वाइड करार दिया गया। इसके बाद दिल्ली कैपिटल्स ने बेहतरीन खेल दिखाया और बचे हुए 4 रन बना लिए। इस तरह दिल्ली ने मैच को 3 विकेट से जीत लिया। मगर इस थर्ड अंपायर के फैसले से दिग्गज भारतीय खिलाड़ी सुनील गावस्कर नाखुश दिखे। मैच के बाद गावस्कर ने स्टार स्पोर्ट्स पर कहा,

“वह स्पष्ट रूप से नो बॉल थी। हमने टीवी अंपायरों से कुछ फैसले लिए हैं, जो इन परिस्थितियों में जीत और हार के बीच अंतर कर सकते हैं, और ऐसा नहीं होना चाहिए। इस तरह के फैसलों से खेल नहीं बदलना चाहिए। यह अच्छी बात है कि दिल्ली जीत गई, क्योंकि इससे खेल बदल सकता था।”