ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर ने पाकिस्तान के खिलाफ तिहरा शतक जड़ दिया। सीरीज के पहले मैच में 154 रन बनाने वाले वॉर्नर 335 रन बनाकर नाबाद रहे। उनके पास ब्रायन लारा के 400 रनों का रिकॉर्ड तोड़ने का अच्छा मौका था लेकिन कप्तान टिम पेन ने पारी घोषित कर दी। टेस्ट क्रिकेट में यह उनका पहला तिहरा शतक था।

वीरेंद्र सहवाग को दिया श्रेय

टी-20 क्रिकेट के बल्लेबाज माने जाने वाले डेविड वॉर्नर ने वीरेंद्र सहवाग को अपने तिहारे शतक का श्रेय दिया है। दोनों खिलाड़ी आईपीएल में दिल्ली के लिए एक साथ खेल चुके हैं। डेविड वॉर्नर ने प्रेस कांफ्रेंस में बात करते हुए कहा

“जब मैं आईपीएल में दिल्ली के लिए खेलते हुए वीरेंद्र सहवाग से मिला, तो उन्होंने मुझे बैठाया और कहा कि मैं ट्वेंटी 20 खिलाड़ी से बेहतर टेस्ट खिलाड़ी बनूंगा। मैंने कहा ’आप अपने दिमाग से बाहर हैं, मैंने ज्यादा प्रथम श्रेणी क्रिकेट भी नहीं खेले हैं।”

टेस्ट को आसानी से समझाया

डेविड वॉर्नर ने बताया कि वीरेंद्र सहवाग ने उन्हें टेस्ट क्रिकेट को सबसे आसान बताया था। उनके समझाने का तरीके वॉर्नर के दिमाग में रह गया। उन्होंने वीरू के समझाने के बारे में बताया

“वह हमेशा कहते थे कि टेस्ट में स्लिप और गली होगा, कवर खुला होगा, मिड ऑन और मिड ऑफ ऊपर रहता है। आप तेजी से शुरुआत कर सकते हैं और पूरे दिन विकेट पर रहकर रन बना सकते हैं। मेरे दिमाग में यह हमेशा रहा, जब हम चर्चा कर रहे थे तो यह बहुत आसान लग रहा था।”

डेविड वॉर्नर का टेस्ट करियर

डेविड वॉर्नर ने 2011 में न्यूजीलैंड के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू किया था। उन्होंने अभी तक 81 टेस्ट मैच खेले हैं और इसकी 149 पारियों में 6947 रन बनाये हैं। उन्होंने ये रन 48.58 की औसत और 73.61 की स्ट्राइक रेट से बनाये हैं।

टेस्ट में उनके बल्ले से 23 शतक और 30 अर्धशतक बनाये हैं। उन्होंने एक तिहरा शतक के साथ ही एक ही दोहरा शतक भी जड़ा है। एक साल की बैन के बाद टेस्ट में उनकी वापसी अच्छी नहीं थी और एशेज सीरीज के 10 पारियों में 95 रन बनाये थे।