IPL 2022: CVC Capital जांच के दायरे में

आईपीएल 2022 (IPL 2022) में 8 के बजाय 10 टीमें हिस्सा लेने जा रही है. जिसके लिए 2 नई फ्रेंचाइजी के नाम भी सामने आ गये है. 25 अक्टूबर को दुबई में हुए 2 नई टीमों की नीलामी में आरपीएसजी (RPSG) ग्रुप ने 7,090 करोड़ रुपये का भुगतान करके लखनऊ फ्रेंचाइजी हासिल की, जबकि सीवीसी कैपिटल (CVC Capital) ने अहमदाबाद फ्रेंचाइजी जीतने के लिए दूसरी सबसे बड़ी बोली (5,600 करोड़ रुपये) लगाई.

लेकिन इस नीलामी के बाद एक नए विवाद का जन्म हो गया है. अब आईपीएल के पूर्व चेयरमैन ललित मोदी (Lalit Modi) ने भी इसको लेकर बीसीसीआई पर निशाना साधा है. इस आर्टिकल में हम आपको बताते हैं कि आखिर पूरा माजरा क्या है.

सट्टेबाजी और जुआ कंपनियों में भारी निवेश 

CVC Capital

दरअसल अहमदाबाद फ्रेंचाइजी के लिए बोली जीतने वाली सीवीसी कैपिटल (CVC Capital) पाटनर्स सट्टेबाजी कंपनियों के साथ अपने संबंधों को लेकर लिए मुश्किल में पड़ गया है. रिपोर्ट के मुताबिक,  सीवीसी कैपिटल ने सट्टेबाजी और जुआ कंपनियों में भारी निवेश किया है.

साल 2013 में मैच फिक्सिंग और सट्टेबाजी के कारण आईपीएल की काफी बदनामी हुई थी. इसी वजह से चेन्नई सुपरकिंग्स (CSK) और राजस्थान रायल्स (RR) पर दो संस्करणों के लिए प्रतिबंध लगाया गया था.  इस मामले में कई मीडिया संस्थानों ने बीसीसीआई (BCCI) से बात करने कि कोशिश की लेकिन बोर्ड ने अभी इस पर कोई कमेंट नहीं किया है.

ललित मोदी ने साधा बीसीसीआई पर निशाना

दो नई आईपीएल टीम के मालिकों को लेकर विवाद बढ़ता नजर आ रहा है. इस मामले में अब आईपीएल के पूर्व चेयरमैन ललित मोदी (Lalit Modi) ने बीसीसीआई (BCCI) पर निशाना साधा है. उन्होंने बोर्ड पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा है कि – क्या सट्टेबाजी करने वाली कंपनियां भी IPL टीमें खरीद सकती हैं ?

यह भी पढ़ें: शेन वॉर्न ने दी Sourav Ganguly को बधाई

मोदी (Lalit Modi) ने ट्वीट करते हुए लिखा, मुझे लगता है कि सट्टेबाजी कंपनियां आईपीएल टीम खरीद सकती हैं. एक नया नियम होना चाहिए. जाहिर है, एक योग्य बोली लगाने वाला भी एक बड़ी सट्टेबाजी कंपनी का मालिक है. आगे क्या? क्या बीसीसीआई (BCCI) अपना होमवर्क नहीं करता है? ऐसे मामले में Anti-corruption क्या कर सकता है?

जांच के दायरे में CVC Capital

CVC Capital

Outlook ने अपनी एक रिपोर्ट में दावा किया है कि, “सट्टेबाजी कंपनियों के साथ संबंधों के लिए सीवीसी कैपिटल (CVC Capital) जांच के दायरे में है.” इस रिपोर्ट के बाद आइपीएल की नई टीम अहमदाबाद फ्रेंचाइजी की बोली जीतने वाली सीवीसी कैपिटल (CVC Capital) विवादों में आ गई है. रिपोर्ट के अनुसार, बीसीसीआइ (BCCI) का ध्यान सीवीसी कैपिटल (CVC Capital) की व्यापारिक गतिविधियों पर पड़ा. लेकिन यह आश्चर्य की बात है कि सोमवार को financials ओपन होने से पहले “verification stage” में इस पर ध्यान नहीं दिया गया.