Virender Sehwag On CSK vs MI DRS Controversy

CSK vs MI: आईपीएल 2022 में चेन्नई सुपर किंग्स और मुंबई इंडियंस (CSK vs MI) की भिड़ंत के दौरान मैच की दूसरी गेंद पर ही एक बड़ा विवाद देखने को मिला था। मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए इस मैच में टॉस हारने के बाद पहले बल्लेबाजी करने आई चेन्नई सुपर किंग्स को शुरुआती कुछ ओवर में DRS का साथ नहीं मिला, इसके पीछे का कारण स्टेडियम में हुआ पावरकट बताया जा रहा है। बड़े मुकाबले में इस ढील पर टीम इंडिया के पूर्व क्रिकेटर वीरेंद्र सहवाग ने बीसीसीआई पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है।

वीरेंद्र सहवाग ने DRS नहीं मिलने पर उठाए सवाल

Virender Sehwag On CSK vs MI DRS Controversy

दरअसल, चेन्नई सुपर किंग्स बनाम मुंबई इंडियंस (CSK vs MI) मैच की शुरुआत से पहले स्टेडियम में पावरकट की समस्या थी। जिसके चलते टॉस में भी विलंब देखा गया था. इसके बाद मैच की पहली 10 गेंदों में DRS उपलब्ध नहीं था। दुर्भाग्यवश मैच की दूसरी ही गेंद पर डेवोन कॉनवे विवादास्पद रूप से LBW करार दिए गए। लेकिन रीप्ले में लग रहा था कि गेंद पूरे तरीके से लेग स्टंप को मिस करती हुई निकल जाएगी। इसी को लेकर वीरेंद्र सहवाग ने क्रिकबज के माध्यम से कहा कि हैरानी की बात है पावरकट की वजह से DRS का इस्तेमाल नहीं हुआ। उन्होंने कहा,

इतनी बड़ी लीग है और उसमें जेनरेटर का इस्तेमाल किया जा सकता है। जेनरेटर के जरिए उस सॉफ्टवेयर या मशीन को चलाया जा सकता है, जिसे DRS के लिए इस्तेमाल किया जाता है। ये बड़ा सवाल है बीसीसीआई के लिए भी, क्योंकि पावर कट होता है तो क्या सिर्फ लाइट्स के लिए जेनरेटर है, ब्रॉडकास्टर्स के लिए जेनरेटर नहीं है”

इसके आगे वीरेंद्र सहवाग ने कहा,

मुझे भी अचंभा लगा कि अगर मैच हो रहा है तो DRS का इस्तेमाल होना चाहिए। या फिर ये नियम बना दिया जाना चाहिए था कि अगर मैच शुरू हो गया है तो पूरे मैच में DRS नहीं होगा। चाहे फिर पावर कट सही हो जाए या नहीं, क्योंकि ये डिसएडवांटेज चेन्नई के लिए हो गया। अगर मुंबई बल्लेबाजी कर रही होती तो उनके लिए भी डिसएडवांटेज होता।”

CSK vs MI मैच में मुंबई इंडियंस ने 5 विकेटों से दर्ज की जीत

b0201547 9486 444a ad41 0c3dd1dce80a

इसके साथ ही चेन्नई बनाम मुंबई (CSK vs MI) मैच के बारे में बात की जाए तो ये आईपीएल 2022 की लीग स्टेज के 59वां मैच था। मैच की शुरुआत से पहले रोहित शर्मा ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला किया था, जिसके तहत पलटन के गेंदबाजों ने संयुक्त रूप से धाकड़ गेंदबाजी करते हुए चेन्नई को 97 रनों पर समेट दिया था.

इस दौरान महेंद्र सिंह धोनी ने सबसे ज्यादा 36 रन बनाए। लिहाजा मुंबई को जीतने के लिए 98 रनों का लक्ष्य मिला, जो कि मुंबई ने शुरुआती ओवर में पिछड़ने के बाद युवा बल्लेबाज ऋतिक शौकीन और तिलक वर्मा की पारियों की बदौलत 5 विकेट और 5.1 ओवर शेष रहते हासिल कर लिया।