आईपीएल खत्म होने में महज अब कुछ ही दिन बाकि रह चुके हैं. तो वहीं आईपीएल खत्म के तुरंत बाद ही क्रिकेट का सबसे बड़ा टूर्नामेंट ‘आईसीसी विश्वकप‘ शुरू होने वाला है. इस सीजन आईपीएल  में कुछ ऐसे मौके भी देखने को मिले जिसमे खिलाड़ी अंपायर के फैसले से खुश नहीं थे. यहाँ तक की इसमें दिग्गज भारतीय खिलाड़ी महेंद्र सिंह धोनी और विराट कोहली भी शामिल हैं. विराट कोहली भारतीय अंपायर ‘एस रवि’ से नाराज थे, तो वहीं महेंद्र सिंह धोनी ‘ब्रूस ऑक्सनफर्ड’ से जिन्होंने आईपीएल के दौरान नाराज थे.

इस साल इंग्लैंड में होने वाले वर्ल्डकप के 48 मैचों के लिए 16 अंपायरों को चुना गया है, जिसमें एस रवि और ब्रूस ऑक्सनफर्ड भी शामिल हैं. वही 6 मैच रेफरी न्युक्त किये गए हैं. अब जब विराट कोहली कप्तान के तौर पर इंग्लैंड में वर्ल्ड कप खेल रहे होंगे और धोनी उनके गाइड की तरह काम करेंगे. उस समय वे अंपायर खिलाड़ियों के भविष्य का फैसला करते नजर आएंगे.

मुंबई इंडियंस से मैच के दौरान विराट कोहली एस रवि से नाराज दिखे 

आईपीएल इस सीजन के 7 वें मुकाबले में मुंबई इंडियंस और रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की टीम एम चिन्नास्वामी स्टेडियम आमने सामने थी. लक्ष्य का पीछा कर रही बैंगलोर की टीम को अंतिम गेंद पर 7 रनों की आवश्यकता थी. गेंदबाजी लसिथ मलिंगा कर रहे थे, उन्होंने ने अंतिम गेंद नो बॉल फेंकी थी, लेकिन अंपायर एस रवि ने उस पर ध्यान नहीं दिया, लिहाजा बैंगलोर की टीम 6 रनों से मैच हार गयी. अगर अंपायर ने नो बॉल दिया होता तो निर्णय कुछ अलग होता.

इस बात को लेकर कप्तान विराट कोहली ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा,

हम कोई क्लब क्रिकेट नहीं खेल रहे हैं, अंपायरों को अपनी आंखें खुली रखनी चाहिए.”

वहीं विजेता टीम मुंबई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा ने इस बात कहा,

“इस तरह की गलतियाँ क्रिकेट के लिए अच्छी नहीं हैं.”

राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ महेंद्र सिंह धोनी अंपायर से नाराज दिखे 

 

राजस्थान के खिलाफ इसी तरह बेन स्टोक्स की गेंद को अंपायर ‘उल्हास गंधे’ ने नो बॉल करार दिया. लेकिन इसके बाद स्क्वायर लेग अंपायर ‘ब्रूस ऑक्सनफर्ड’ से बात करने के बाद फैसला बदल दिया. इससे नाराज महेंद्र सिंह धोनी मैदान पर बहस के लिए उतर आए. महेंद्र सिंह धोनी की जैसी छवि रही है, उसमें उन्हें ऐसे अंदाज में देखने की किसी को उम्मीद नहीं थी. हालांकि इस अंदाज से यह भी सवाल उठता है कि इस तरह की अंपायरिंग खिलाड़ियों को हताश, निराश कर रही है, जिसकी वजह से वो ऐसा कदम उठा रहे हैं.

आईसीसी के ‘एलिट क्लब’ में शामिल हैं सुन्दरम रवि 

भारतीय अंपायरों की कमजोरी हमेशा से ही मुद्दा रही है यही वजह है कि आईसीसी के एलिट पैनल में कोई भारतीय अंपायर नहीं थे. भारतीय अंपायर सुन्दरम रवि भी  करीब 11 साल बाद एलीट पैनल में आने वाले पहले भारतीय अंपायर बने थे. वरना तो 2004 में एस. वेंकटराघवन के रिटायर होने के बाद कोई भारतीय अंपायर पैनल का हिस्सा नहीं था.

अब एस रवि हिस्सा हैं, लेकिन क्या जब वो मैदान पर उतरेंगे, तो विपक्षी टीमें विराट कोहली वाली घटना से वाकिफ नहीं होंगी? क्या विपक्षी टीम के खिलाड़ी यह नहीं सोचेंगे कि जिसकी इज्जत उसके देश का खिलाड़ी नहीं कर रहा, वो यकीनन स्तरहीन अंपायर होगा?

वर्ल्डकप के लिए अंपायर :- अलीम दार, कुमार धर्मसेना, मरायस एरास्मस, क्रिस गैफनी, इयन गुड, रिचर्ड इलिंगवर्थ, रिचर्ड केटलबरो, नाइजल लॉन्ग, ब्रूस ऑक्सनफर्ड, सुंदरम रवि, पॉल राइफल, रॉड टकर, जोएल विल्सन, माइकल गफ, रुचिरा पालियागुरुगे, पॉल विल्सन.

मैंच रेफरी – क्रिस ब्रॉड, डेविड बून, एंडी पायक्रॉफ्ट, जेफ क्रो, रंजन मदुगले, रिची रिचर्ड्सन

आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया हो तो प्लीज इसे लाइक करें। अपने दोस्तों तक इस खबर को सबसे पहले पहुंचाने के लिए शेयर करें। साथ ही कोई सुझाव देना चाहे तो प्लीज कमेंट करें। अगर आपने हमारा पेज अब तक लाइक नहीं किया हो तो कृपया इसे जल्दी लाइक करें, जिससे लेटेस्ट अपडेट आप तक पहुंचा सके।