Salaries of BCCI coaches Rahul Dravid and Ravi Shastri revealed
Hindustan times

मैदान पर अगर आपकी टीम संघर्ष कर हार जाए तो जीत बहुत करीब नजर आती हैं। इस उम्मीद के साथ क्रिकेट प्रेमी उस मुकाबले की आखिरी गेंद तक मैच नहीं छोड़ता की इस बार जीत हमारी हैं। लेकिन अगर इसके विपरीत घटना हो जाए तो उस उम्मीद के टूटने का जो बदला है, वह क्रिकेट प्रेमी सोशल साइट्स पर जम कर निकालते हैं। कोई एक उनके ट्रॉल्लिंग का शिकार होता है और इस बार इस सूची में सबसे ऊपर हैं भारतीय टीम के कोच रवि शास्त्री।

विराट की कप्तानी में पहली बार एक इनिंग से हारा भारत

Pic credit: Getty images

बर्मिंघम में भारत के लिए विराट कोहली वन मैन आर्मी के किरदार में दिखे, तो वहीं लॉर्ड्स क्रिकेट मैदान पर यह पूरी टीम ताश के पत्तो की तरह बिखर गई। विराट की कप्तानी में पहली बार भारत को एक इनिंग से हार झेलनी पड़ी।

इस मुकाबले में पहले बल्लेबाजी करते हुए भारतीय टीम 107 रनों पर सिमट गई और जवाब में इंग्लैंड ने 7 विकेट के नुकसान पर 396 रनों पर अपनी पारी घोषित कर दी। दूसरी पारी में खेलने उतरे भारतीय बल्लेबाज पहली पारी तक कि लीड नहीं उतार पाए और एक इनिंग्स 159 रनों से यह मुकाबला हार गए।

रवि शास्त्री पर जमकर बरसा फैंस का गुस्सा

Pic credit: Getty images

एक बार फिर फैंस ने अनिल कुंबले को हटा रवि शास्त्री को कोच बनाने की आग को सोशल साइट्स पर जगह दे दी हैं। लोगों ने शास्त्री और कुंबले की तुलना करना शुरू कर दिया हैं।

देखे ट्वीट्स

किसी ने तो तस्वीरों के सहारे ही रवि शास्त्री को विराट का चमचा बता दिया

किसी ने तो रवि शास्त्री को टीम का चीयर लीडर बता दिया

यह कहते हैं कि रवि शास्त्री को विराट कोहली को चीयर करने के पैसे दिए जाते हैं। कुंबले यह सब नहीं कर पाते थे उनके पास बस 619 विकेट थे।

कुछ और ट्वीट्स देखे

जुलाई 2017 में कुंबले को हटा कोच बने रवि शास्त्री

Pic credit: Getty images

आपको बता दे कि जुलाई 2017 में कुंबले को हटा रवि शास्त्री को भारतीय टीम का कोच बनाया गया था जब चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भारत को पाकिस्तान से हार झेलनी पड़ी थी। इस हार के बाद कुंबले ने खुद ही पद से इस्तीफा दे दिया था।

Pic credit: Getty images

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक विराट कोहली और कुंबले के बीच भी गर्मा गर्मी जैसा माहौल था। रवि शास्त्री की कोचिंग में भारतीय टीम ने सफेद बॉल क्रिकेट में काफी अच्छा प्रदर्शन किया। जबकि टेस्ट मुकाबलों में कहानी कुछ उल्टी हैं उप महाद्वीप में भारतीय खिलाड़ियों का प्रदर्शन अच्छा रहा हैं जबकि विदेशी जमीं पर कुछ खांस नहीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here