क्रिकेट फैंस

भारत-इंग्लैंड के बीच 5 फरवरी से 4 टेस्ट मैचों की सीरीज शुरू हो रही, और उससे पहले क्रिकेट फैंस के लिए बड़ी खुशखबरी सामने आई है. दरअसल दोनों टीमों के बीच पहले टेस्ट मुकाबले की मेजबानी चेन्नई का एमए चिदंबरम स्टेडियम कर रहा है. जिसे देखने को लेकर दर्शक काफी उत्सुक हैं. ऐसे में अब तमिलनाडु सरकार ने कंफर्म कर दिया है कि ग्राउंड में 50 प्रतिशत क्राउड को जाने की इजाजत होगी.

क्रिकेट फैंस के लिए बड़ी खुशखबरी

क्रिकेट फैंस

दरअसल क्रिकेट फैंस के लिए खुशखबरी वाली बात यह है कि भारत और इंग्लैंड के बीचे होने वाले टेस्ट मुकाबले को दर्शक स्टेडियम में जाकर देख सकेंगे. हाल ही में टाइम्स ऑफ इंडिया की तरफ से जारी की गई एक रिपोर्ट में यह कहा गया है कि, तमिनाडु सरकार ने रविवार को दिए गए बयान में यह बात कही है कि, विरोधी टीम के खिलाफ होने वाले मैच के साथ ही बाकी खेलों में भी 50 प्रतिशत स्टेडियम की सीट फुल की जाए.

शुरूआत के 2 टेस्ट मुकाबले दोनों टीमों के बीच चेन्नई के एमए चिदंबरम स्टेडियम में खेला जाएगा. इसके बाद आखिरी के 2 टेस्ट मुकाबले अहमदाबाद के स्टेडियम में आयोजित होंगे. रिपोर्ट के जरिए यह जानकारी दी गई है कि अभी तक यह तय नहीं हुआ था कि, राज्य सरकार फैंस को स्टेडियम में एंट्री देगी या नहीं. लेकिन अब इजाजत दे दी है.

तमिलनाडु सरकार ने स्टेडियम में दर्शकों को मैच देखने के दी छूट

क्रिकेट फैंस

दरअसल टाइम्स ऑफ इंडिया में छपी रिपोर्ट में यह जानकारी भी दी गई है कि, कोरोना के हालात को देखते हुए, 24 से 28 फरवरी के और 4 से 8 मार्च के बीच होने वाले आखिरी टेस्ट मैच में गुजरात सरकार दर्शकों को स्टेडियम में अनुमति देने के बारे में प्लान बना रही है.

रविवार को कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एडप्पादी के पलानीस्वामी ने खुद घोषणा करते हुए बयान दिया है कि, स्टेडियम में 50% लोगों के बैठने की क्षमता के साथ क्रिकेट समेत हर खेल के आयोजनों में क्रिकेट फैंस समेत बाकी खेलों के भी दर्शक जा सकेंगे.

भारत-इंग्लैंड समेत सभी तरह के खेल को स्टेडियम में देख सकेंगे क्रिकेट फैंस

क्रिकेट फैंस-indvseng

रिपोर्ट के मुताबिक तमिलनाडु क्रिकेट एसोसिएशन ने भी स्टेडियम में क्रिकेट फैंस के आने को लेकर कहा है कि, कोरोना महामारी के बाद यह पहला मौका होगा जब लाइव मैच दर्शक स्टेडियम में बैठकर देख सकेंगे.

इसके अलावा रिपोर्ट के मुताबिक राज्य सरकार ने इनडोर मीटिंग को भी करने की इजाजत दे दी है. इसमें  धार्मिक समारोहों से लेकर सांस्कृतिक कार्यक्रम, कॉलेज उत्सवों और मनोरंजन कार्यक्रमों को भी शामिल किया गया है, जिसमें 50% लोगों के बैठने की क्षमता के मुताबिक या फिर ज्यादा से ज्यादा 600 लोगों के मौजूद होने के लिए कहा है.