Cricket

Cricket के गलियारों से निकलकर कई क्रिकेटर्स राजनीति की गलियों में भविष्य बनाते हैं। भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व क्रिकेटर मनोज तिवारी और अशोक डिंडा ने भी राजनीति में कदम जमाने शुरु कर दिए हैं। पश्चिम बंगाल चुनाव में इन दोनों ही खिलाड़ियों ने जीत हासिल की है। डिंडा बीजेपी के प्रत्याशी थे, तो वहीं तिवारी को टीएमसी से टिकट मिली थी।

विधान सभा में भिडेंगे दो बड़े Cricketer

Cricket

बंगाल चुनाव के परिणाम घोषित हो चुके हैं। अमूमन आपने दो क्रिकेटर्स के बीच भिडंत मैदान पर ही देखी होगी, लेकिन अब बंगाल में ऐसा विधान सभा के भीतर देखने को मिलने वाला है। पश्चिम बंगाल चुनाव में 2 बड़े क्रिकेटरों ने जीत दर्ज की है। इसमें दिलचस्प बात ये है कि दोनों ने अलग-अलग पार्टी से चुनाव जीता है।

पूर्व बल्लेबाज मनोज तिवारी और पूर्व गेंदबाज अशोक डिंडा दोनों ही बंगाल चुनाव से ठीक पहले क्रमश: टीएमसी (TMC) और भाजपा (BJP) में शामिल हुए थे। जहां, दोनों ने ही अपनी-अपनी पार्टी के लिए जीत हासिल की और अब वह विधायक बने हैं।

जीत के बाद मनोज तिवारी ने दिया बयान

Cricket

मनोज तिवारी ने भारत के लिए 12 वनडे, तीन टी20आई मैच खेले। जिसमें उन्होंने क्रमश: 287 रन बनाए और 15 रन बनाए। तिवारी आखिरी बार जनवरी 2021 में आयोजित हुई सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में बंगाल की टीम से खेलते नजर आए थे। इसके बाद उन्होंने राजनीति का रास्ता चुना और अब वह टीएमसी के विधायक हैं। बंगाल के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक मनोज तिवारी ने कहा,

“मैं इन चुनावों के लिए अच्छी तरह से तैयार था और मैंने जीत के लिए कड़ी मेहनत की थी. मैं जानता हूं कि राजनीति आसान काम नहीं है और एक अलग क्षेत्र से जुड़े रहे नए व्यक्ति के लिये यह अधिक मुश्किल हो जाती है। मैंने शिबपुर में घर घर जाकर प्रचार किया। वे मेरे इरादों से वाकिफ थे।”