BCCI Domestic Cricket

Covid-19 के बीच अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट की पटरी पर आने के बाद अब भारत के घरेलू सीजन की शुरुआत भी होने जा रही है। लेकिन इससे पहले BCCI ने आगामी घरेलू सत्र से पहले सभी राज्य संघों को कोविड-19 के दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं। भारत का घरेलू सत्र महिला अंडर-19 वन-डे और वीनू मांकड़ ट्रॉफी (पुरुष अंडर-19) के साथ 20 सितंबर से शुरू होगा। बोर्ड ने इन इवेंट्स को सुरक्षित तरीके से आयोजित करने के लिए सख्त नियम बनाए हैं, ताकि वैश्विक महामारी टूर्नामेंट को प्रभावित ना कर सके।

नहीं कर सकते पब्लिक ट्रांसपोर्ट का इस्तेमाल

bcci

भारत में Covid-19 की स्थिति काबू में है। लेकिन कुछ जगहों पर अभी भी इसका असर है। ऐसे में BCCI ने भारत के घरेलू सीजन को रिज्यूम तो कर दिया है। मगर इसमें हिस्सा लेने वाले सभी सदस्यों के लिए सख्त नियम जारी किए हैं। क्रिकबज द्वारा देखे गए एक पत्र में, बीसीसीआई ने कहा,

“सार्वजनिक परिवहन का उपयोग। टूर्नामेंट के दौरान शेयर राइड (उबर, ओला, आदि), ट्रेन, स्थानीय बस नेटवर्क आदि पूरी तरह से प्रतिबंधित हैं।

6 दिनों की होगी क्वारेंटीन अवधि

घरेलू सीजन को सुरक्षित तरीके से आयोजित करने के लिए BCCI ने सभी राज्य संघों से कहा है कि खिलाड़ियों को होटल पर पहुंचने के बाद 6 दिनों की क्वारेंटीन अवधि में रहना होगा। यदि किसी खिलाड़ी की कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आती है, तो उसे 10 दिनों के लिए आइसोलेशन से गुजरना पड़ेगा। बीसीसीआई की एक विस्तृत सलाह में कहा,

“सभी खिलाड़ियों और सहयोगी स्टाफ को होटल में आने के बाद 6 दिनों के लिए अपने-अपने होटल के कमरों में क्वारेंटीन करना होगा। आगमन पर और किसी भी प्रशिक्षण गतिविधियों को शुरू करने से पहले, सभी खिलाड़ी और टीम के सहयोगी स्टाफ, जिन्हें बायो बबल में शामिल किया जाएगा, वह COVID-19 RT-PCR टेस्ट योजना के अधीन होंगे। टेस्ट के लिए एक नासॉफिरिन्जियल स्वैब लिया जाएगा। सैंपल लेने के बाद 12-24 घंटों के अंदर टेस्ट की रिपोर्ट उपलब्ध होती है।”

“सीओवीआईडी ​​​​-19 का पॉजिटिव रिजल्ट आने पर सदस्य को 10 दिनों के लिए अलग करना चाहिए और स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों की सलाह लेनी चाहिए। अपनी 10 दिनों की आइसोलेशन अवधि के दौरान, आरटी-पीसीआर टेस्ट को दोहराना होगा, कम से कम 24 घंटे के अलावा, 9वें व 10वें दिन आरटी-पीसीआर टेस्ट कराए जाएंगे।”

“बशर्ते खिलाड़ी को 24 घंटे से अधिक समय तक COVID-19 से जुड़े किसी भी लक्षण के बिना होना होगा, पिछले 24 घंटों में कोई दवा न ली हो और दोनों परीक्षण रिपोर्ट नकारात्मक आए हो, उन्हें अपनी टीम में शामिल होने की अनुमति दी जा सकती है।”

PPE किट पहनकर बाहर जाएंगे खिलाड़ी

BCCI

BCCI ने आगे कहा है कि यदि टूर्नामेंट के बीच किसी भी खिलाड़ी को अस्पताल जाना पड़ता है, तो उन्हें PPE किट पहनकर ही जाना होगा। ताकि वह कोविड-19 से सुरक्षित रहें।

“असाधारण परिस्थितियों में, यदि खिलाड़ियों को स्कैन या किसी और ​​​​इलाज के लिए अस्पताल जाना पड़ता है, तो उन्हें लोगों के क्लोज कॉन्टेक्ट से बचाने के लिए खास एरिया बनाया जाएगा, जो उन्हें बायो बबल से बाहर सुरक्षित रखेगा। खिलाड़ियों और टीम के कर्मचारियों को अस्पताल के दौरे के दौरान पीपीई (फेस मास्क और दस्ताने) पहनने होंगे।”

“20 खिलाड़ी मैच फीस के लिए पात्र होंगे (प्लेइंग इलेवन 100 प्रतिशत के लिए पात्र होगा जबकि बाकी 9 खिलाड़ियों को 50 प्रतिशत फीस मिलेगी)। यदि टीम इंडिया के किसी क्रिकेटर को घरेलू क्रिकेट में भाग लेने के लिए बीसीसीआई द्वारा भेजा किया जाता है, तो वह मैचों में प्लेइंग इलेवन और नॉन-प्लेइंग इलेवन की स्थिति के आधार पर 20 खिलाड़ियों से अधिक मैच फीस के लिए पात्र होगा।”