भारतीय टीम के मध्यक्रम के बल्लेबाज चेतेश्वार पुजारा ने दक्षिण अफ्रिका में सफल होने का मंत्र बताया है. भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच 5 जनवरी से केपटाउन में टेस्ट सीरीज का पहला टेस्ट खेला जाना है. भारतीय टीम महीनों बाद किसी विदेशी दौरे पर है, जबकि दक्षिण अफ्रीका में भारतीय टीम 2013-14 के बाद अब खेलने जा रही है.टीम का दक्षिण अफ्रिका में प्रदर्शन भी अच्छा नहीं हैं टीम ने यहां 6 सीरीज खेली और सभी गंवाई हैं. हालांकि, इस बार हालात बदले हुए हैं. टीम ने पिछले दो सालों में गजब का प्रदर्शन किया है.

चेतेश्वर पुजारा टेस्ट टीम में मध्यक्रम के खिलाड़ी हैं. वह टीम किन रीढ़ माने जाते हैं. वह इन दिनों बेहतरीन फॉर्म में हैं. वह इस फॉर्म को दक्षिण अफ्रीका में भी बनाए रखने में कामयाब होगे. पुजारा इससे पहले दो बार दक्षिण अफ्रीका का दौरा कर चुके हैं

ये है दक्षिण अफ्रीका में सफल होने का मंत्र-

चेतेश्वर पुजारा ने दक्षिण अफ्रीका का दो बार दौरा कर चुके हैं, इसी लिए उन्होंने टीम के बल्लेबाजों को संबोधित करते हुए कहा, कि यहां जीत का मंत्र है. सही तरीके से गेंदों को  छोड़ना. उन्होंने कहा, यह हमेशा जरुरी होता है कि आप गेंद को किस तरीके से छोड़ते हैं, खास तौर पर विदेशी पिचों पर. एक बार जब हम घर से बाहर निकलते हैं, तो हमे उछाल और तेजी देखने को मिलती है. इस कारण किसी को भी अच्छी तरह से गेंद को छोड़ने की समझ होनी चाहिए.

चेतेश्वर पुजारा, ने कहा, हमारे कई खिलाड़ी यह पहले खेल चुके हैं. मैं यहां 2010-11 और 2013-14 में आ चुका हूं.

हम बेहतर स्थिति में-

पुजारा ने कहा, हमने लगातार बेहतरीन खेल दिखाया है. हमारे पास ऐसे गेंदबाज हैं, जो ऐसी परिस्थितियों में और बेहतर निखर कर आएंगे, क्योंकि उन्होंने भारत में बेहतरीन गेंदबाजी की है, जहां ज्यादा तेजी नहीं होती है. उन्होंने सपाट पिचों में विकेट निकाले हैं. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हमारे गेंदबाजों ने जिस तरह से पाटा पिचों में खेल दिखाया था वह बेहतरीन था.

श्रीलंका सीरीज से ही की दक्षिण अफ्रीका के लिए तैयारी-

पुजारा ने कहा कि हमने श्रीलंका के खिलाफ सीरीज से ही दक्षिण अफ्रिका दौरे की तैयारी शरू कर दी थी, हमने घास वाली पिचें बनवाई थी, इसलिए हमे यहा बस अपना प्राक्रतिक खेल खेलना है.

खेल पत्रकार

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *