Stephen-Fleming

दिल्ली के खिलाफ मिली हार के बाद चेन्नई के कोच स्टीफन फ्लेमिंग बल्लेबाजों से बेहद निराश हैं. हालांकि गेंदबाजों से संतुष्ट हैं. बता दें, दिल्ली के 163 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए चेन्नई की टीम अंबाती रायुडू (50) के अर्धशतक के बावजूद छह विकेट पर 128 रन ही बना सकी. रायुडू के अलावा सिर्फ रविंद्र जडेजा (नाबाद 27) ही सुपरकिंग्स की ओर से 20 रन के आंकड़े को पार कर पाए.

दिल्ली की ओर से अमित मिश्रा (20 रन पर दो विकेट) और संदीप लामिचाने (21 रन पर एक विकेट) की लेग स्पिन जोड़ी ने अपनी फिरकी का जादू दिखाया. ट्रेंट बोल्ट ने भी 20 रन देकर दो विकेट चटकाए जबकि हर्षल पटेल ने 23 रन देकर एक विकेट हासिल किए.

मैच के बाद चेन्नई के कोच फ्लेमिंग ने कहा कि “हमें हमारे बल्लेबाजों ने हमें मैच से दूर कर दिया. हमारे गेंदबाजों ने अच्छा प्रदर्शन किया. हां, यह बात सही है कि आखिरी ओवरों में रन बने लेकिन टी20 में ये चलता रहता है. दिल्ली ने पूरी पारी के दौरान काफी अच्छी गेंदबाजी की. धीमे विकेट के कारण हम भी उपयोगी साझेदारियां निभाने में नाकाम रहे”

हालांकि अंत में फ्लेमिंग ने यह भी स्वीकार किया कि विकेट स्लो होने के कारण बल्लेबाजी करना आसान नहीं था. बल्लेबाज रन बनाने की कोशिश कर रहे थे लेकिन सफलता नहीं मिल रही थी. स्पिनरों ने विकेट हासिल करके हमारे ऊपर दबाव बनाया.”

यह पूछने पर कि क्या इतने लंबे टूर्नामेंट के बाद खिलाड़ियों पर थकान का असर दिखने लगा है, फ्लेमिंग ने कहा, “ऐसा नहीं है कि खिलाड़ियों पर थकान का असर दिख रहा है. उन्होंने (दिल्ली डेयरडेविल्स ने) काफी अच्छी गेंदबाजी की. सुरेश रैना ब्रेक (स्ट्रैटेजिक ब्रेक) के तुरंत बाद आउट हो गए. उन्होंने कैच पकड़े और हमारे ऊपर दबाव बनाया.”

फ्लेमिंग ने कहा, ‘जब आप धीमी पिच पर औसत स्कोर का पीछा करते हुए नियमित अंतराल पर विकेट गंवाते हो, तो काफी मुश्किल हो जाती है. प्रत्येक विकेट के साथ हम पिछड़ते चले गए और वापसी नहीं कर पाए. हमारा कोई बल्लेबाज बड़ी पारी नहीं खेल पाया.’

Anurag Singh

लिखने, पढ़ने, सिखने का कीड़ा. Journalist, Writer, Blogger,

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *