pjimage 2020 04 11t202336 1586616838

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच वनडे सीरीज के दो मैच हो चुके हैं, जिसमें दोनों ही मैच में ऑस्ट्रेलिया की टीम के कप्तान आरोन फिंच ने टॉस जीता और साथ ही दोनों मैच भी जीते. लेकिन इस दौरान जो सबसे ज्यादा गौर करने वाली बात वो ये की टीम इंडिया के विराट कोहली अपने पुराने रंग में नहीं दिखे और उनसे कप्तानी करने के दौरान कुछ गलतियां भी हुई. जिसके बाद गौतम गंभीर उनकी कप्तानी से बिलकुल भी खुश नजर नहीं आए.

विराट कोहली की कप्तानी से नराज दिखे गौतम

Gautam Gambhir spills the beans on his alleged rift with MS Dhoni - The12thMan

पूर्व भारतीय दिग्गज खिलाड़ी और बीजेपी के सांसद गौतम गंभीर जिन्होंने टीम इंडिया के लिए काफी लंबे समय तक क्रिकेट खेला और आज कल वो राजनीति में अपनी क्रिकेट की कला को दिखाते हुए नजर आ रहे हैं. वहीं वो विराट कोहली की कप्तानी से नराज दिखे. जिसके बाद ईएसपीएन क्रिकइंफों उन्होंने कहा कि

“वह इस बात को नहीं समझ पा रहे हैं कि विराट ने नई गेंद के साथ जसप्रीत बुमराह को महज ओवर ही क्यों दिए. सच कहूं तो मुझे उनकी कप्तानी समझ में नहीं आई. हमें लगता इस बारे में बात कर चुके हैं कि शुरुआत में विकेट लेना कितना अहम है.”

“अगर हमें इस तरह के बैटिंग लाइन-अप को रोकना है, फिर आप अपने मुख्य गेंदबाज से दो ओवर करवाते हैं. वनडे में ज्यादा गेंद 4, 3, 3 ओवर के तीन स्पेल करते हैं या फिर चार-चार ओवर के स्पेल.”

मुझे विराट कोहली का फैसला समझ नहीं आया- गंभीर

India vs Pakistan: There can't be a conditional ban on cricket with Pakistan: Gautam Gambhir | Cricket News - Times of India

उन्होंने आगे कहा कि

“लेकिन अगर आप अपने मुख्य तेज गेंदबाजों को महज दो ओवर करवाते हैं, तो इस तरह की कप्तानी मुझे समझ नहीं आती. इस तरह की कप्तानी को मैं एक्सप्लेन भी नहीं कर सकती हूँ. यह टी20 क्रिकेट नहीं हैं. मुझे यह फैसला समझ नहीं आया और इसका कोई कारण नजर नहीं आता, यह ख़राब कप्तानी थी. वहीं टीम इंडिया छठे खिलाड़ी के रूप में शिवम दुबे और वाशिंगटन सुंदर को अपने साथ रख सकते हैं जो गेंदबाजी के साथ-साथ बल्लेबाजी भी कर सकते हैं.”

अगले मैच में इन दो खिलाड़ी को दे सकते हैं जगह

Gautam Gambhir reflects on his India career - YouTube

पूर्व दिग्गज खिलाड़ी गौतम गंभीर आगे बताया और कहा कि

“अगले मैच में वाशिंगटन सुंदर या शिवम दुबे या ऐसे किसी खिलाड़ी को प्लेइंग इलेवन में जगह दी जा सकती है, जिससे आए कि वह वनडे फॉर्मेट में कैसा करते हैं, लेकिन अगर आपके पास ऑस्ट्रेलिया में ऐसा कोई खिलाड़ी नहीं है, तो यह सिलेक्टरर्स की गलती हैं.”