Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse

क्रिकेट की सबसे बड़ी लीग आईपीएल का हिस्सा बनी हुई विराट कोहली की कप्तानी वाली रॉयल चैलेंजर्स बैंगलौर को आईपीएल में 12 सीजन पूरे कर चुकी हैं लेकिन, अभी तक उनके हाथ एक भी ख़िताब नहीं लगा हैं.

जिसको देखते हुए क्रिकेट प्रशंसको के जहन में एक बात हमेशा उठती हैं वो ये कि जिस टीम में विराट कोहली,एबी डिविलियर्स, क्रिस गेल जैसे तमाम दिग्गज खिलाड़ी हो वो ख़िताब को अपने नाम करने से इतना दूर क्यों हैं.

कप्तान विराट कोहली, वो खिलाड़ी हैं जिसे देश रन मशीन के नाम से भी जानता है और टीम इंडिया को जीत पर जीत दिलाते नजर आये हैं, लेकिन2013 से रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की फ्रेंचाइजी की कमान संभाल रहे कोहली आईपीएल में टीम को अब तक भला एक भी खिताब क्यों नहीं जिता पाए हैं.

तो आइए जान लेते हैं वो 5 अहम कारणों के बारे में, जिसके चलते अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कप्तान विराट कोहली क्यों हैं सफल और आईपीएल में फ्लॉप.

1. टीम में नहीं है संतुलन

 रॉयल चैलेंजर्स

आईपीएल फ्रेंचाइजी रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर पर गौर करें, तो उनमें कभी भी संतुलन देखने को नहीं मिला हैं. मानो पूरी टीम विराट कोहली, एबी डिविलियर्स  निर्भर रहती है. कभी टीम के पास अच्छी गेंदबाजी इकाई नहीं होती, तो कभी पावर हिटर्स की कमी देखने को मिलती हैं. क्रिस गेल भी टीम का हिस्सा रहे हैं.

ऐसे में टीम का खिताब जीतना का सपना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन हो जाता है. अगर आप मुंबई इंडियंस, चेन्नई सुपर किंग्स जैसी सफल फ्रेंचाइजी की टीमों पर गौर करेंगे, तो आपको समझ आ जाएगा की आरसीबी की टीम में क्या कमी है.

टीम की जरुरतों के हिसाब से को रणनीति बनाने में बैंगलोर पूरी तरह से फ्लॉप हैं. अगर वहीं हम टीम को मौजूदा वक्त के हिसाब से देखे तो टीम के पास ना तो अच्छे डेथ ओवर गेंदबाज हैं और ना ही बड़े- बड़े शॉट लगाने वाले खिलाड़ी. ऐसे में टीम के चयनकर्ता को सोच समझ कर कदम उठाना होगा.

Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse