भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह ने कहा कि गेंदबाजों को हमेशा टी20 प्रारूप में विकेट के लिए जाना चाहिए. ऑफ स्पिनर का मानना ​​है कि गेंदबाज के लिए खेल के सबसे छोटे प्रारूप में गेंदबाजी करते समय सकारात्मक मानसिकता होना जरूरी है. भज्जी के अनुसार टी20 प्रारूप में एक गेंदबाज को सफल बनने के लिए रन रोकने की बजाय विकेट लेने के बारे में सोचना चाहिए.

भज्जी ने कहा कि अगर कोई गेंदबाज विकेट लेने में सक्षम होता है, तो वह स्वाभाविक रूप से इकॉनमी रेट पर भी काबू पा लेगा.

बल्लेबाजो का खेल माना जाता है टी20

यह बात किसी से नहीं छिपी की टी20 क्रिकेट को गेंदबाजो से ज्यादा बल्लेबाजों का खेल माना जाता है. इस प्रारूप में बल्लेबाज लगभग हर एक गेंद पर बड़े शॉट के लिए जाता है और अधिक आक्रामकता के प्रयास में विकेट खोने के अवसर भी ज्यादा होते है.

अपनी स्पिन से दुनियाभर के बल्लेबाजों को नचाने वाले हरभजन सिंह ने टी20 प्रारूप में भी काफी सफलता प्राप्त की. टर्बनेटर के नाम से मशहूर हरभजन सिंह के पास अनुभव की बिल्कुल भी कमी नहीं है. हरभजन का मानना ​​है कि टी20 प्रारूप में गेंदबाजी करते समय किसी को शांत रहना चाहिए.

हर समय सिर्फ विकेट के बारे में सोचे

अनुभवी ऑफ स्पिनर ने यह भी कहा कि गेंदबाज को खुद को जल्दी करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए अगर वह एक सीमा के लिए हिट हो और उसे वापसी करने के बारे में सोचना चाहिए. ईएसपीएन क्रिकइन्फो क्रिकेट मंथली से बात करते हुए भज्जी ने कहा,

“आपको हर समय विकेट के बारे में सोचना होगा. ज्यादातर गेंदबाज इस प्रारूप में विकेट के बारे में नहीं सोचते हैं. यदि आप विकेट लेते हैं, तभी आप हिट नहीं होंगे. यदि आप विकेट नहीं लेते हैं, तो भले ही आपके पास एक अच्छा गुगली हो, लेकिन आपका लेग स्पिन अच्छा है, हालांकि आपका दूसरा अच्छा है या आपका ऑफ स्पिन, आप रन के लिए जाएंगे क्योंकि आप सही नहीं सोच रहे हैं – आपको इस बारे में सोचना होगा विकेट.”

ऐसा रहा भज्जी का टी20 करियर

हरभजन सिंह ने भारतीय टीम के लिए 28 T20I मैच खेले जिसमें उन्होंने 6.21 की शानदार इकोनॉमी रेट से 25 विकेट झटके. दूसरी ओर, हरभजन एक दशक तक मुंबई इंडियंस के लिए खेले और वह आईपीएल इतिहास में उनके दूसरे सबसे अधिक विकेट लेने वाले खिलाड़ी हैं. ऑफ स्पिनर ने मुंबई इंडियंस के लिए 136 आईपीएल मैचों में 127 विकेट झटके.

आईपीएल में मुंबई के अलावा चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेलने वाले हरभजन सिंह के नाम टूर्नामेंट के 160 मैचों में 7.05 की इकॉनमी के साथ 150 विकेट लेने का रिकॉर्ड दर्ज है.

AKHIL GUPTA

क्रिकेट...क्रिकेट...क्रिकेट...इस नाम के अलावा मुझे और कुछ पता नहीं हैं. बस क्रिकेट...