india vs bangladesh day night test 1572359369 1582903102

आईपीएल-2020 में आये एक फिक्सिंग कॉल ने पूरी बीसीसीआई को हिलाकर रख दिया. लेकिन गनीमत यह रही की खिलाड़ी ने इस कॉल की जानकारी आईपीएल में मौजूद एंटी करप्शन यूनिट को दी. लेकिन उनके मुताबिक अभी तक इस कॉल ले बारे में किसी भी तरह की जानकारी प्राप्त नहीं हुई है. बोर्ड ऑफ़ क्रिकेट कण्ट्रोल ऑफ़ इंडिया ने फिक्सिंग मामले की जांच करने के लिए सपोर्टट्रेडर टेक्नोलॉजी की मदद ले सकती हैं.

फिक्सिंग को लेकर एंटी करप्शन यूनिट को मिली थी जानकारी

Need a law against fixing': BCCI Anti-Corruption Unit chief Ajit Singh | Sports News,The Indian Express

आईपीएल-2020 में अभी तक किसी भी प्रकार की फिक्सिंग नहीं देखी गई थी. लेकिन इस दौरान एक फिक्सिंग की बात सामने आते ही बीसीसीआई के अजीत सिंह ने पीटीआई को बताया कि

“यह खबर बिलकुल सही हैं, बाहरी आदमी ने आईपीएल के खिलाड़ी से फिक्सिंग के लिए संपर्क करने की कोशिश की थी. लेकिन हम अभी तक उस शख्स की तलास में लगे हुए हैं जिसमे अभी थोड़ा समय लगेगा.”

 बीसीसीआई ले सकती हैं सपोर्टट्रेडर टेक्नोलॉजी की मदद

BCCI 1

सपोर्टट्रेडर टेक्नोलॉजी को आईपीएल-2020 में पिछले माह से बोर्ड एंटी करप्शन यूनिट के साथ काम करने के लिए शामिल किया गया था. लेकिन कुछ दिन पहले ही एक आदमी ने आईपीएल-2020 के एक खिलाड़ी से मैच फिक्सिंग को लेकर पेशकश की थी.

जिसने बीसीसीआई को पूरी तरह से हिलाकर रख दिया था. लेकिन इस जानकारी के मिलते ही बीसीसीआई सतर्क और चुस्त नज़र आ रही है. उनका मानना है कि आगे ऐसा कुछ ना हो इसलिए वो सपोर्टट्रेडर टेक्नोलॉजी का इस्तमाल कर सकती हैं.

जिस खिलाड़ी ने इस जानकारी को एंटी करप्शन यूनिट तक पहुंचाई थी. उस खिलाड़ी का नाम सामने नहीं लाया गया है. क्योंकि ऐसा कराना बिलकुल भी ठीक नहीं होगा. लेकिन इस केस के मिलने के बाद बीसीसीआई और एंटी करप्शन यूनिट पूरी तरह सतर्क नज़र आ रही हैं.

बायो बबल स्क्योरिटी में नहीं हो सकती फिक्सिंग

bio ipl

आईपीएल-2020 में किसी भी तरह की फिक्सिंग को लेकर बीसीसीआई पहले से ही सतर्क थी. लेकिन उसके बावजूद कुछ दिन पहले फिक्सिंग को लेकर एक आदमी ने आईपीएल के एक खिलाड़ी से पेशकश की. लेकिन बीसीसीआई के अधिकारी ने बताया कि चिंता की कोई बात नहीं हैं.

क्योंकि बायो बबल स्क्योरिटी के चलते कोई भी खिलाड़ी से किसी भी तरह का आदमी फिक्सिंग के लिए बात नहीं कर सकता. लेकिन उन्होंने ये भी साफ़ किया है कि अगर कोई फिक्सिंग को लेकर पेशकश करता है तो वो सिर्फ ऑनलाइन के माध्यम से पेशकश कर सकता है. लेकिन उसके लिए भी एंटी करप्शन यूनिट टीम अब पूरी तरह से तैयार हैं.