Bhuvneshwar Kumar IND vs SA 5th T20

IND vs SA: भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) को भारत और दक्षिण अफ्रीका के बीच खेली गई टी20 सीरीज में प्लेयर ऑफ द सीरीज के अवॉर्ड से नवाजा गया है। हालांकि 5 मैचों की इस टी20 सीरीज का निर्णायक मुकाबला बारिश के चलते रद्द हो गया।

जिसके कारण सीरीज 2-2 की बराबरी पर समाप्त हुई और खिताब को दोनों टीमों के बीच साझा किया गयाा है। 32 वर्षीय भुवनेश्वर कुमार को इस पूरी शृंखला के दौरान गेंद से शानदार योगदान के चलते सीरीज का सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी चुना गया है। अवॉर्ड मिलने पर भुवी ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी है।

Bhuvneshwar Kumar बने ‘प्लेयर ऑफ द सीरीज’

Player of The Series IND vs SA

भारत बनाम दक्षिण अफ्रीका सीरीज से पहले भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) ने इंटरनेशनल क्रिकेट के अंतिम कुछ मैचों में कुछ खास प्रदर्शन नहीं किया था। लेकिन आईपीएल 2022 में एक बार फिर अपनी लय प्राप्त की और इसे दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मुकाबलों में जारी रखा। भुवनेश्वर कुमार तमाम युवा खिलाड़ियों के बीच अपनी छाप छोड़ने में कामयाब हुए हैं।

उन्होंने इस सीरीज के 4 मैच में 6 विकेट हासिल किए जो कि किसी भी गेंदबाज द्वारा दूसरे सबसे ज्यादा विकेट हैं। इस दौरान उन्होंने सिर्फ 6.06 के इकॉनोमी रेट से रन खर्च किए। जिसके चलते उन्हें प्लेयर ऑफ द सीरीज चुना गया है।

“ऋषभ पंत ने मुझे आजादी दी” – Bhuvneshwar Kumar

India great furious at captain Rishabh Pant's bowling tactics in 2nd T20I vs SA | Cricket - Hindustan Times

भुवनेश्वर कुमार मौजूदा समय में टीम इंडिया के सबसे अनुभवी गेंदबाज है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ भारतीय क्रिकेट टीम के दिग्गज खिलाड़ियों को आराम दिया गया था। जिसके चलते टीम में कई युवा खिलाड़ियों को शामिल किया गया था।

इस सीरीज में कप्तानी करने वाले ऋषभ पंत भी पहली दफा इंटरनेशनल लेवल पर टीम की अगुवाई कर रहे थे। ऐसे में अनुभवी खिलाड़ी होने के नाते भुवी से सभी को बेहतरीन प्रदर्शन की उम्मीद थी और उन्होंने भी इस सीरीज में निराश नहीं किया। सीरीज खत्म होने के बाद भुवनेश्वर ने कहा,

मुझे बेहद अच्छा लग रहा है, शारीरिक तौर पर भी फिट महसूस कर रहा हूं, लेकिन मैं इसके बारे में ज्यादा बात नहीं करना चाहता। मैं सिर्फ शारीरिक रूप से और अपनी गेंदबाजी से मजबूत होने पर ध्यान देना चाहता हूं। ज्यादातर बार मैं पहले दो और अंत में दो ओवर गेंदबाजी करता हूं। सीनियर होने के नाते मैं यह भी सोचता हूं कि युवाओं की मदद कैसे करूं। मैं भाग्यशाली रहा हूं कि कप्तान ने मुझे वह करने की पूरी आजादी दी जो मैं चाहता था।