BK

भारतीय क्रिकेट टीम के तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार (Bhuvneshwar Kumar) भारत के स्विंग गेंदबाज हैं, जिनके पास दोनों तरह से गेंद को स्विंग कराने की काबिलियत है। वह एक बेहतरीन स्विंग बॉलर हैं। मगर पिछले कुछ सालों में भुवी ने अपने पेस पर भी काम किया है और अब वह पहले से भी अधिक खतरनाक गेंदबाज हो चुके हैं। अब पेसर ने खुद बताया है कि आखिर उन्होंने अपनी गति में सुधार क्यों किया।

Bhuvneshwar Kumar ने क्यों किया गति में सुधार

Bhuvneshwar Kumar

Bhuvneshwar Kumar पिछले कुछ सालों में अपने पेस पर काफी काम किया है। अब उन्होंने सनराइजर्स हैदराबाद द्वारा शेयर किए एक वीडियो के द्वारा इस बात का खुलासा किया है कि उन्होंने पिछले कुछ सालों में पेस पर काम किया है, जिसने उनकी मदद भी की है। एसआरएच के आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में Bhuvneshwar Kumar ने कहा,

“ईमानदारी से कहूं तो, पहले कुछ वर्षों में मुझे नहीं पता था कि गति कुछ ऐसी है जिसे गेंदबाजी में जोड़ने की जरूरत है। जैसे-जैसे मैं खेलता रहा, मुझे एहसास हुआ कि स्विंग के साथ मुझे सुधार करने की जरूरत है। मेरी गति 120kmph या सिर्फ 130kmph था, उसी गति से बल्लेबाज स्विंग को समायोजित कर रहे थे। इसलिए, मैं गति बढ़ाना चाहता था, लेकिन मुझे नहीं पता था कि यह कैसे करना है। कड़ी मेहनत करने और समय बिताने के बाद यह सामान्य बात हो गई।”

गति में सुधार करने में था सक्षम

Bhuvneshwar Kumar

Bhuvneshwar Kumar स्विंग के सुल्तान हैं, मगर जब स्विंग के साथ-साथ पेस भी अच्छा हो जाता है, तो गेंदबाज और भी खतरनाक हो जाता है और भुवी भी स्विंग और गति के मिलने से काफी खतरनाक हो गए। उन्होंने आगे कहा,

“सौभाग्य से, मैं गति में सुधार करने में सक्षम था और इससे मुझे बाद के चरणों में वास्तव में मदद मिली। तो हां, जब आपके पास गति होती है, 140 से अधिक की गति नहीं, लेकिन 130 किलोमीटर प्रतिघंटा के मध्य में गेंदबाजी करने से उस स्विंग को बनाए रखने और बल्लेबाज को अनुमान लगाने में मदद मिलती है।”