592520 bharat arun ravi shastri zaheer khan

जब से अनिल कुंबले ने भारतीय कोच पद से स्तीफा दिया है और उसके बाद रवि शाश्त्री को नाटकीय ढंग से कोच पद मिला, लेकिन उसके बाद भी कोच और उनके स्टाफ की चर्चाए खत्म होने का नाम ही ले रही. सचिन सौरव और गांगुली द्वारा संचालित क्रिकेट एडवाइजरी कमिटी ने भारतीय टीम के सबसे सफल गेंदबाज जहीर खान बॉलिंग कोच और राहुल द्रविड़ को विदेशी दौरों के लिए बैटिंग एक्सपर्ट के तौर पर रखा था, लेकिन खबरे आई कि रवि शास्त्री इस फैसले से बिलकुल खुश नही है.

भरत अरुण को बनाना चाहते है कोच-

592520 bharat arun ravi shastri zaheer khan

रवि शास्त्री भारतीय टीम के पूर्व बॉलिंग कोच भरत अरुण को कोच बनाना चाहते है. खबरें यह भी आई कि भरत अरुण को बीसीसीआई ने गेंदबाजी कोच नियुक्त कर दिया है. इस मामले में जब भरत अरुण से बात की गयी और पुछा गया कि क्या आप को बीसीसीआई से कोई पद मिल गया है तो उन्होंने ने कहा कि –अभी तक तो नही.

अभी क्या कर रहे है अरुण-

arun

54 वर्षीय भरत अरुण वर्तमान समय में तमिलनाडु प्रीमियर लीग की टीम वीबी थिरिवल्लुर वीरन्स के बॉलिंग कोच है. इसके अलावा इंडियन प्रीमियर लीग की टीम रॉयल चैलेंजर बेंगलोर के भी बॉलिंग कोच है. इससे पूर्व वो भारतीय टीम के भी बॉलिंग कोच रह चुके है. भरत अरुण ने ये स्पष्ट कर दिया है कि वो भारतीय टीम से जुड़ने के लिए लगातार सम्पर्क में बने हुए है और यदि उन्हें बॉलिंग कोच बनाया जाता है, तो वो टीएनपीएल और आईपीएल की टीमो को तुरंत छोड़ देंगे. खुलासा: बुमराह ने खुद किया कबूल, आईपीएल 10 में इस दिग्गज खिलाड़ी को आउट करने के बाद किया था अभद्र भाषा का प्रयोग

शास्त्री को विनोद राय से पूरी उम्मीद-

lodha
pic credit:Getty images

रवि शास्त्री मुख्य कोच बनने के बाद अपने सपोर्ट स्टाफ से खुश नही है. उनका कहना है कि उनके ऊपर सपोर्ट स्टाफ थोपा गया है. इसी कारण उन्होने सुप्रीम कोर्ट द्वारा बनाई गयी समिति, कमेटी ऑफ़ एडमिनिस्ट्रेशन (सीओए) से मिलने का फैसला किया है. चूँकि सीओए अध्यक्ष विनोद राय ने इस मामले को संज्ञान में लेते हुए क्रिकेट एडवाइजरी कमेटी (सीएसी) को एक पात्र लिखा जिसमे कहा कि आप ने नियमो के खिलाफ सपोर्ट स्टाफ का सेलेक्शन किया है. जबकि सीएसी ने कहा था कि जहीर खान और राहुल द्रविड़ का चयन रवि शास्त्री से पूछने के बाद ही किया गया है. रवि शास्त्री को अब उम्मीद है कि समिति उनके पक्ष में ही फैसला लेगी.

उम्मीद ये भी की जानी चाहिए कि इस मीटिंग के बाद सपोर्ट स्टाफ को लेकर हो रहा विवाद भी थम जाए.

Leave a comment

Your email address will not be published.