भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड  जल्द ही सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट (BCCI Central Contract) का ऐलान कर सकता हैं. भारतीय टेस्ट टीम के 5 खिलाड़ियों को कॉन्ट्रैक्ट से बाहर का रास्ता दिखा सकती है. इन खिलाड़ियों का फॉर्म काफी खराब रहा हैं. ये खिलाड़ी अपना बेहतर प्रदर्शन दिखाने में नाकामयाब साबित हुए है. ऐसे में BCCI की गाज इन खिलाड़ियों पर गिर सकती हैं. चेतेश्वर पुजारा, रहाणे, कुलदीप, इशांत शर्मा पिछले 1-2 सालों से अच्छा नहीं चल रहा है. अभी हाल ही में खेली गई. टेस्ट सीरीज में अफ्रीका के खिलाफ चेतेश्वर पुजारा ओऱ रहाणे ने खराब बल्लेबाजी की. जिसके चलते भारतीय टीम को अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से हार का सामना करना पडा.  पाचों खिलाड़ियों को टीम से बाहर करने की कई बार मांग उठ चुकी है. अब ऐसे में इन दोनों खिलाड़ियों पर खराब प्रदर्शन की गाज गिर सकती है. दरअसल, कयास लागाए जा रहे कि चेतेश्वर पुजारा, रहाणे, कुलदीप, इशांत शर्मा सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट (BCCI Central Contract) की लिस्ट से बाहर किया जा सकता है.

1.चेतेश्वर पुजारा

Cheteshwar Pujara

भारतीय टेस्ट क्रिकेट टीम के स्टार बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं.  सोशल मीडिया पर फैंस उन्हे ट्रोल कर रहे हैं और टीम से बाहर करने की मांग कर रहे हैं. लेकिन अगर आंकड़ों पर एक नज़र डाली जाए तो इस समय भारतीय टीम का मिडिल ऑर्डर पूरी तरह फ्लॉप है. 2020 से लेकर अबतक के आंकड़ों पर नज़र डाली जाये चेतेश्वर पुजारा का फॉर्म खराब है. इस एक साल में पुजारा ने 23 पारियों में 25.09 के औसत से 552 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने 5 अर्धशतक लगाए हैं और उनका सर्वश्रेष्ठ स्कोर 77 रहा. इस बार जब नए कॉन्ट्रैक्ट जारी होंगे तो सभी की नजर इस पर होगी कि क्या दिग्गज टेस्ट बल्बेबाज चेतेश्वर पुजारा अपने पहले के ग्रेड A में बने रहते हैं या नहीं. इस  खिलाड़ी का लंबे समय से खराब फॉर्म में हैं.

2. अजिंक्य रहाणे

Ajinkya Rahane

भारतीय टीम के सलामी बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे का BCCI के नए कॉन्ट्रैक्ट में बने रहना काफी चुनौति पूर्ण रहने वाला है. क्योंकि स्टार बल्लेबाज चेजिंक्य रहाणे खराब फॉर्म से जूझ रहे हैं. पिछले दो साल से इन्होंने टेस्ट क्रिकेट में बड़ी पारी नहीं खेली है. जिसके चलते इन पर BCCI की गाज गिरना लगभग तय है. वही रहाणे के आकड़ों को पर नजर डाले तो  अजिंक्य रहाणे ने 22 पारियों में 25.76 के औसत से 541 रन बनाए हैं. अजिंक्य रहाणे अपने पहले के ग्रेड A में बने रहते हैं या नहीं. दोनों ही खिलाड़ी लंबे समय से खराब फॉर्म में हैं. बीसीसीआई में आमतौर रिटेनरशिप’ पर फैसला, बोर्ड के तीन अधिकारी, पांच चयनकर्ता और राष्ट्रीय मुख्य कोच मिलकर करते हैं. पिछली बार के सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट (BCCI Central Contract) में 28 खिलाड़ियों को जगह दी गयी थी. इसबार भी इसमें शायद ही कोई ख़ास बदलाव होगा. क्या इस खिलाड़ी को दोबारा सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट में बरकरार रखा जाएगा.

3. कुलदीप यादव

kuldeep yadav-NZ

कुलदीप यादव को टीम इंडिया की सबसे मजबूत कड़ी माना जाता था, लेकिन अब कुलदीप भारतीय क्रिकेट टीम से बाहर हो गए. सही मायने में कुलदीप के करियर की उल्टी गिनती महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास के बाद से ही शुरू हो गई थी. T20 वर्ल्ड कप 2021 के लिए कुलदीप यादव को टीम इंडिया में शामिल नहीं किया गया था. न्यूजीलैंड और साउथ अफ्रीका सीरीज में भी उनकी अनदेखी हुई. जब से महेंद्र सिंह धोनी ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा है, तब से कुलदीप के तेवर ढीले पड़ गए. कुलदीप की गेंदबाजी की चमक मंद पड़ गई. कुलदीप यादव ने टीम इंडिया के लिए 23 टी-20 इंटनेशनल मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 14.21 की औसत और 7.15 की इकॉनोमी रेट से महज 41 विकेट अपने नाम किया. उनका बेस्ट बॉलिंग फिगर 5/24 रहा जो उन्होंने साल 2018 में इंग्लैंड के खिलाफ मैनचेस्टर में हासिल किया था. फिलहाल कुलदीप यादव  BCCI के सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट में सी-ग्रेड में शामिल है. देखना अब यह होगा क्या कुलदीप दोबारा इस कॉन्ट्रैक्ट में जगह बनाने में कामयाब होगे.

4 .इशांत शर्मा

Indian Cricket team

तेज गेंदबाज इशांत शर्मा (Ishant Sharma) अपनी खराब फार्म से जूझ रहे हैं. काफी लंबे समय से ODI और टी20 टीम से भी बाहर चल रहे है. जिनका टीम में वापसी कर पाना बेहद मुश्किल लगता है.  इशांत शर्मा (Ishant Sharma) 33 साल का हो चुके है. जो अपनी फिटनेस को लेकर भी काफी परेशान रहते है.  ऐसे में टीम मैनेजमेंट और चयनकर्ता भी चाहेंगे कि नए चेहरों को आजमाया जाए. भारत के पास बैंच पर प्रसिद्ध कृष्णा, आवेश खान, नवदीप सैनी जैसे तेज गेंदबाज हैं. इनके पास रफ्तार भी है और इनका प्रदर्शन भी प्रभावशाली रहा है. साथ ही सिराज को भी इशांत के प्लेइंग इलेवन में होने पर बाहर बैठना पड़ता है. 2021 में इशांत ने आठ टेस्ट खेले और 32.71 की औसत और 72.1 की स्ट्राइक रेट के साथ 14 विकेट लिए. 48 रन देकर तीन विकेट उनका बेस्ट प्रदर्शन रहा है. इशांत ने इस दौरान इंग्लैंड और भारत में टेस्ट मैच खेले लेकिन लगातार विकेट नहीं निकाल पाए. फिलहाल इशांत शर्मा  BCCI के सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट में सी-ग्रेड में शामिल है.