Babar Azam

पाकिस्तान टीम के कप्तान बाबर आजम (Babar Azam) की कप्तानी में पाकिस्तानी टीम लिमेटिड ओवर के मैचों में तहलका मचाती हुई नजर आ रही है, लेकिन टीम का प्रदर्शन टेस्ट मैच में कुछ खास नहीं नजर आ रहा है। हाल ही में वेस्टइंडीज को तीन मैचों की टी20 सीरीज और तीन ही मैचों की ओडीआई सीरीज में क्लीन स्वीप करने के बाद बाबर आजम (Babar Azam) ने बताया है कि टीम को टेस्ट फॉर्मेट में क्या सुधार करने की जरूरत है।

Babar Azam ने बताई PAK टेस्ट टीम की खामियां

Babar Azam

पाकिस्तान क्रिकेट टीम को 16 जून से श्रीलंका के खिलाफ दो मैचों की टेस्ट सीरीज खेलनी है। वहीं, बाबर ने सोमवार को श्रीलंका के खिलाफ टीम की वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप के तहत खेली जाने वाली सीरीज से पहले यह बात कही कि,

”हम टेस्ट क्रिकेट खेलने के तरीके को बदलने की कोशिश कर रहे हैं। जब दूसरी टीम आप पर हावी होती है तो यह बल्लेबाजों के लिए आसान नहीं होता है। हम स्थिति की परवाह किए बिना पॉजिटिव खेलना चाहते हैं। लेकिन कई बार यह किसी निश्चित दिन के बारे मे होता है जब मैच जीतने के लिए आप रणनीति तय करते हैं।”

Babar Azam ने टेस्ट मैच में स्पिनर्स की भूमिका को लेकर दिया ये बयान

Shadab Khan

बाबर आजम ने श्रीलंका दौरे पर जाने से पहले अपने बयान में कहा कि टेस्ट मैच में स्पिनर्स का दबदबा होता है। साथ ही उन्होंने कहा कि टीम को ये याद रखना चाहिए कि टेस्ट क्रिकेट की सुंदरता परिस्थितियों के अनुकूल होने में है। पाकिस्तान टीम के कप्तान ने कहा,

“आपको यह याद रखना चाहिए कि टेस्ट क्रिकेट की खूबसूरती परिस्थितियों के अनुरूप ढलने में होती है। अगर प्रतिद्वंद्वी टीम आप पर हावी है तो आप तेजी से रन नहीं बना सकते। हम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उनकी मौजूदा टेस्ट सीरीज पर नजर रखे हुए हैं। आप देख सकते हैं कि वहां स्पिनरों का दबदबा है।”

Babar Azam ने पाकिस्तान टीम के गेंदबाजों के लिए कही ये बात

Naseem Shah

बाबर को भरोसा है कि शाहीन शाह अफरीदी की अगुवाई में तेज गेंदबाज भी सीरीज में अपनी छाप छोड़ेंगे। बाबर आजम ने कहा,

“लेकिन हमने उनकी परिस्थितियों के अनुसार तैयारी की है और हमारे पास परिस्थितियों का फायदा उठाने के लिए यासिर शाह, नौमान अली, नवाज के रूप में अच्छे स्पिनर हैं। मुझे अपने तेज गेंदबाजों पर भी भरोसा है, वे भी हावी रहेंगे। हमारे बल्लेबाज को वहां खेलने का अनुभव है और वे परिस्थितियों में आसानी से ढल जाएंगे। श्रीलंका एक युवा टीम है, वे अपनी परिस्थितियों को अच्छी तरह जानते हैं और उन्हें हल्के में नहीं लिया जा सकता है।”