ashwin

कोलकाता नाइट राइडर्स और दिल्ली कैपिटल्स के बीच खेले गए मुकाबले में इयोन मोर्गन, टिम साउथी और रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) के बीच हुई गर्मा गर्मी वाले मामले को सोशल मीडिया पर काफी ज्यादा तूल दिया जा रहा है। कोई अश्विन को सही ठहरा रहा है, तो कोई मोर्गन की साइड ले रहा है। इन सबके बीच अब अश्विन ने खुद सोशल मीडिया के जरिए इस पूरे वाक्ये के बारे में बताया है और इसे खेल भावना बताई है।

Ashwin ने बताया क्यों हुआ था विवाद

दिल्ली कैपिटल्स की टीम को केकेआर के हाथों हार का सामना करना पड़ा। इसके अलावा मैच के दौरान रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) केकेआर के कप्तान इयोन मोर्गन और टिम साउथी के साथ विवाद में उलझ गए थे। अब खुद उन्होंने ट्विटर के जरिए पोस्ट करते हुए लिखा-

‘मैंने फील्डर का थ्रो देखा और रन भागना चाहा। उस समय मैंने नहीं देखा था कि गेंद ऋषभ को लगी है। यदि देखा होता तो भी भागता क्योंकि नियमों में यह मान्य है। मोर्गन के अनुसार मैंने नियमों का पालन नहीं किया लेकिन यह गलत है।’

खुद के लिए आवाज उठा रहे थे अश्विन

Ravichandran Ashwin ने ये साफ किया, कि उन्होंने किसी से लड़ाई नहीं की बल्कि सिर्फ अपना बचाव किया। दरअसल, पंत को गेंद लगने के बाद भी अश्विन रन के लिए भागे और इसपर इयोन मोर्गन ने सवाल उठाए थे। उन्होंने कहा,

‘मैंने लड़ाई नहीं की बल्कि अपना बचाव किया। मेरे शिक्षकों और माता-पिता ने मुझे यही सिखाया है और अपने बच्चों को भी आप खुद के लिए खड़े होना सिखाइए। मोर्गन और साउदी अपने अनुसार नियम बनाते हैं कि क्या सही है और क्या गलत । उन्हें दूसरों को नैतिकता का पाठ पढाने और अपमानजनक शब्दों के इस्तेमाल का हक नहीं है।’

लोगों की बहस से हैरान हैं विलियमसन

अश्विन के इस विवाद पर सोशल मीडिया पर काफी प्रतिक्रिया व्यक्त की जा रही हैं। शेन वॉर्न ने ट्विटर पर पोस्ट करते हुए मोर्गन को सही ठहराया। वहीं फैंस Ashwin को सही बता रहे हैं। उन्होंने कहा,

 ‘मैं इससे ज्यादा हैरान इस बात से हूं कि लोग इस पर बहस कर रहे हैं और यह जताने की कोशिश कर रहे हैं कि कौन अच्छा है और कौन बुरा। मैं सिर्फ इतना समझता हूं कि मैदान पर अपना सब कुछ दे दो और नियमों के भीतर खेलो। इसके बाद खेल खत्म होने पर हाथ मिला लो और यही खेलभावना मेरी समझ में आती है।’