714027 england test series reuters

भारतीय क्रिकेट टीम और इंग्लैंड क्रिकेट टीम के बीच चार टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मैच मेहमान इंग्लैंड की टीम ने शानदार तरीके से जीतकर अपने नाम कर लिया। इस मैच को इंग्लैंड ने 227 रनों के बड़े अंतर से जीतकर ये संदेश दे दिया है कि वह एंजेलो डी मेलो ट्रॉफी जीतने की प्रबल दावेदार टीम है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि एंथेलो डी मेलो ट्रॉफी क्यों और किसके नाम पर दी जाती है। तो आइए इस आर्टिकल में आपको इन सभी सवालों के जवाब देते हैं।

1951 में हुई थी शुरुआत

dom bess 1612873829

जब इंग्लैंड क्रिकेट टीम भारत आकर टेस्ट सीरीज खेलती है, तो उसके पुरुस्कार के रूप में दी जाने वाली ट्रॉफी का नाम होता है एंथनी डी मेलो ट्रॉफी। वहीं जब भारतीय टीम, इंग्लैंड जाकर टेस्ट सीरीज खेलती है, तो उस ट्रॉफी का नाम पटौदी ट्रॉफी होता है।

आपको बता दें, एंथनी डी मेलो ट्रॉफी की शुरुआत 1951 में हुई थी। आमतौर पर आपने देखा होगा कि ट्रॉफी का नाम किसी दिग्गज खिलाड़ी के नाम पर रखा जाता है लेकिन भारत-इंग्लैंड सीरीज की ट्रॉफी का नाम भारत के किसी बड़े खिलाड़ी नहीं बल्कि बीसीसीआई के फाउंडेशन मेंबर के नाम पर रखी गई।

एंथनी डी मेलो के नाम पर क्यों रखा गया ट्रॉफी का नाम?

IND VS ENG 1ST TEST 1 3 1024x683 1

भारत और इंग्लैंड के बीच खेली जाने वाली टेस्ट सीरीज का नाम एंथनी डी मेलो के नाम पर रखा गया। भले ही डी मेलो ने भारत के लिए क्रिकेट नहीं खेला, लेकिन आज भारतीय क्रिकेट जिस मुकाम पर है, इसमें इस शख्स का बड़ा योगदान है।

एंथनी ने बीसीसीआई की स्थापना में बड़ा योगदान दिया और वह भारतीय क्रिकेट बोर्ड के पहले सेक्रेटरी भी रहे।बाद में एंथनी बोर्ड के अध्यक्ष भी बने और इसी दौरान भारत के इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया से रिश्ते मजबूत हुए। एंथनी डी मेलो ने 1928-29 और 1937-38 में बोर्ड के सचिव रहे। भारत के सबसे बड़ा घरेलू टूर्नामेंट रणजी ट्रॉफी को भी एंजेलो ने ही शुरू कराया।

भारत के लिए ये एंथनी डी मेलो ट्रॉफी जीतना अहम

Indian players AP1a

भारत ने इंग्लैंड के साथ एंथनी डी मेलो ट्रॉफी के पहले मैच को 227 रनों के बड़े अंतर से गंवा दिया है। अब सीरीज का दूसरा मैच चेन्नई के एम चिदंबरम स्टेडियम में खेला जाएगा। वैसे यदि आप एंजेलो डी मेलो ट्रॉफी के इतिहास पर गौर करें, तो इसमें भारत का दबदबा दिखता है।

13 बार भारत और इंग्लैंड के बीच एंथनी डी मेलो ट्रॉफी खेली जा रही है। जिसमें से 7 बार इसे भारत ने जीता है और तीन बार इंग्लैंड ने जीत दर्ज की और इंग्लैंड ने इस ट्रॉफी को 3 बार जीता।