अजिंक्य रहाणे-ajinkya rahane

ऑस्ट्रेलियाई सरजमीं पर विराट कोहली की गैर मौजूदगी में अंजिक्य रहाणे की कप्तानी में इतिहास रचकर लौटी भारतीय टीम के जीत और जज्बे की जमकर तारीफ हो रही है. एडिलेड टेस्ट मुकाबले में मिली हार के बाद मेलबर्न में टीम इंडिया ने जबरदस्त वापसी की, और 8 विकेट से जीती. इसके बाद सिडनी टेस्ट ड्रॉ करवाया और ब्रिस्बेन टेस्ट में धमाकेदार जीत के सात सीरीज का अंत किया.

ऐतिहासिक सीरीज जीत पर पहली बार अजिंक्य रहाणे ने दिया बयान

अजिंक्य रहाणे-ajinkya rahane

2-1 से सीरीज अपने नाम करने के बाद भारतीय टीम वापस स्वदेश लौट आई है, और इंग्लैंड के साथ होने  वाले घरेलू सीरीज की तैयारी में लगी है. इसी बीच अजिंक्य रहाणे ने ऑस्ट्रेलियाई सीरीज को लेकर कई बड़े बयान दिए हैं, साथ ही विराट कोहली से जुड़े सवाल पर भी उन्होंने बेबाकी से जवाब दिया है.

दरअसल भारतीय टीम की मेजबानी करते हुए जिस अंदाज में रहाणे ने कप्तानी का जिम्मा संभालते हुए जीत की सिलसिला बरकरार रखा उसे लेकर देश और विदेशों के कई पूर्व क्रिकेटरों ने तारीफ की और उन्हें विराट कोहली की जगह परमानेंट टेस्ट कप्तान बनाने की भी मांग कर डाली है. लेकिन रहाणे ने जो बयान दिया है, वो बाकियों की सोच से बिल्कुल परे है.

अजिंक्य रहाणे ने भारतीय टीम को दिया सीरीज जीत का श्रेय

अजिंक्य रहाणे-ajinkya rahane

एक निजी न्यूज चैनेल से टेस्ट सीरीज के बारे में एक्सक्लूसिव बातचीत करते हुए रहाणे ने  कहा, अजिंक्य रहाणे ने  जीत का श्रेय पहले तो पूरी टीम को दिया, उनका कहना है कि वो एक अच्छे कप्तान इस वजह से दिख रहे हैं क्योकिं सभी खिलाड़ियों ने मिलकर अच्छा खेला है.

इसके साथ ही उन्होंने रोहित शर्मा और शुभमन गिल के ओपनिंग की भी जमकर तारीफ की है. हिट मैन के बारे में बात करते हुए अंजिक्य रहाणे ने कहा कि, मुझे पता था कि वो भारत को एक अच्छी शुरूआत दे सकते हैं, इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि शुभमन गिल ने शानदार बल्लेबाजी की और एक बेहतरीन ओपनर साबित हुए.

विराट कोहली से नहीं है कप्तानी में कोई बराबरी: अजिंक्य रहाणे

अजिंक्य रहाणे-ajinkya rahane

इसके आगे अजिंक्य रहाणे से जब विराट कोहली और उनकी खुद की कप्तानी को लेकर सवाल किया गया तो उन्होने इसकाे जवाब देते हुए कहा कि,

‘टेस्ट में कप्तानी को लेकर मेरे और विराट कोहली के बीच में कोई मुकाबला नहीं है. जब विराट कप्तान होते हैं, तो उनका मकसद भी भारतीय टीम को जीत दिलाना होता, और जब मैं कप्तान बना तो मेरा भी यही मकसद था, जो विराट कोहली बतौर कप्तान करते थे.’

चेतेश्वर पुजारा के जज्बे की तारीफ करते हुए रहाणे ने कहा कि, उन्हें पता था कि उनकी पारी टीम के लिए कितनी मायने रखती है, इसलिए शरीर पर इतनी गेंदे खाने के बाद भी वोल क्रीज पर टिके रहे और आखिरी के 2 टेस्ट में जबरदस्त पारी खेली. इसके साथ ही ऋषभ पंत को लेकर रहाणे ने कहा कि,

‘पंत को कहा गया था कि आप सिर्फ अपना नेचुरल खेल खेलो और बाकी किसी चीज की टेंशन मत लो. जिस तरह से आप खुलकर बल्लेबाजी करते हैं वैसा ही खेलो.’