अजिंक्य रहाणे-कुलदीप यादव-ajinkya rahane

भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच अजिंक्य रहाणे की कप्तानी में खेली गई 4 टेस्ट मैचों की सीरीज में 71 साल बाद ऐसा हुआ था जब कुलदीप यादव जैसे खिलाड़ियों की जगह गैर अनुभवी खिलाड़ियों को शामिल किया गया था.  आखिरी टेस्ट मैच में भारतीय टीम कई गैर अनुभवी खिलाड़ियों की साथ ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ उतरी थी.

अजिंक्य रहाणे की कप्तानी में मिली सीरीज पर जीत

अजिंक्य रहाणे-कुलदीप यादव-ajinkye rahane

कोहली की कप्तानी  में पहला टेस्ट मैच गंवाने के बाद मेलबर्न में अजिंक्य रहाणे ने टीम की कमान को संभालते हुए शानदार वापसी की और भारत सीरीज का पहला टेस्ट मैच दिलाया. इसके बाद सिडनी टेस्ट मैच को ड्रॉ कराने में भी भारतीय टीम सफल रही, और फिर ब्रिस्बेन में वो इतिहास रच दिया, जिसकी उम्मीद न के बराबर थी.

भारतीय क्रिकेट टीम ने ऑस्ट्रेलिया को 32 साल बाद उसी की अजेय सरजमीं पर धूल चटाने में कोई कसर नहीं छोड़ी, और ब्रिस्बेन में जबरदस्त जीत हासिल की. अजिंक्य रहाणे ने सीरीज पर 2-1 से कब्जा जमाते हुए बॉर्डर- गावस्कर ट्रॉफी पर को अपने नाम किया. इस ऐतिहासिक जीत का जश्न फैंस के साथ ही दिग्गजों ने भी मनाया.

अजिंक्य रहाणे ने क्यों कुलदीप यादव को ब्रिस्बेन में नहीं दिया मौका

अजिंक्य रहाणे-कुलदीप यादव-ajinkye rahane

हालांकि ब्रिस्बेन में खेले गए अंतिम मुकाबले में स्पिनर कुलदीप यादव की जगह वॉशिंग्टन सुंदर को डेब्यू कराने का मौका दिया गया था. जबकि स्पिनर मौजूद थे. ऐसे में उन्हें क्यों मौका नहीं मिला इस पर अजिंक्य रहाणे ने अपनी बात रखी है. इस पूरे मामले पर बात करते हुए कप्तान ने कहा कि,

“यह बहुत ही ज्यादा मुश्किलों भरा निर्णय था, क्योंकि कुलदीप यादव बतौर स्पिनर टीम में पहले से ही शामिल थे और खेलने के हकदार भी थे. लेकिन उस वक्त हमने उस टेस्ट मैच के लिए अपने टीम के कॉम्बिनेशन पर ज्यादा ध्यान दिया. वॉशिग्टन सुंदर को इस वजह से मौका मिला, क्योंकि उनकी बल्लेबाजी सही थी. मैं 5 गेंदबाजों के साथ उतरने की सोच रहा था और वह हमें यह ऑप्शन दे रहे थे”.

बल्लेबाजी ने प्लेइंग 11 में सुंदर को दिलाई जगह: अजिंक्य रहाणे

अजिंक्य रहाणे-कुलदीप यादव-ajinkye rahane

“ऐसे में हमें यह पहले से ही पता था कि वह एक अच्छे बल्लेबाज हैं, जिसे उन्होंने आखिर में साबित भी कर दिया. क्योंकि मुझे पता है कि किस तरह से महसूस होता है. मैं ऐसी परिस्थितियों से पहले भी गुजरा था”.

अंजिक्य रहाणे ने आगे बात करते हुए कहा कि,

“टेस्ट डेब्यू करने से पहले 2 साल तक मैं प्लेइंग इलेवन से बाहर बैठा हुआ था. मेरा यह मानना है कि, टीम से जुड़ा हर एक सदस्य आपके लिए टेस्ट मैच जीतने में अहम भूमिका निभाता है. इसलिए आपको सभी का साथ देना चाहिए.”

भारतीय टीम के लिए अहम भूमिका निभाएंगे कुलदीप: अजिंक्य रहाणे

अजिंक्य रहाणे-कुलदीप यादव-ajinkye rahane

इसके साथ ही कुलदीप यादव के बारे में आगे अजिंक्य रहाणे ने यह भी कहा कि,

“मुझे पता है कि कुलदीप  की मौजूदगी टीम में हमारे लिए कितनी ज्यादा अहम है, और वह भविष्य में होने वाले मुकाबलों में काफी बड़ा योगदान देने वाले हैं. मेरे लिए तो खिलाड़ियों का उत्साह बढ़ाना और उनके विश्वास को बढ़ाना ज्यादा मायने रखता है.”