Indian cricket team captain Mahendra Singh Dhoni poses for pictures with the ICC World Twenty20 trophy after defeating Pakistan in the final at the Wanderers Cricket Stadium in Johannesburg, 24 September 2007. AFP PHOTO / Saeed KHAN (Photo credit should read SAEED KHAN/AFP/Getty Images)
Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse

भारतीय क्रिकेट टीम के सबसे सफल कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने भारत को 3 आईसीसी ट्रॉफी जिताई। एमएस ने भारत के लिए 17 साल तक क्रिकेट खेला और 15 अगस्त 2020 को अपने सफल अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर पर हमेशा-हमेशा के लिए फुल स्टॉप लगा दिया।

एमएस के इस फैसले ने फैंस को यकीनन बेहद मायूस किया है। मगर बात वही है की खिलाड़ी कोई भी हो लेकिन एक ना एक दिन उसे क्रिकेट को अलविदा कह अपने करियर की अगली पारी का आगाज करना ही होता है। ठीक उसी तरह अब एमएस भी अपने करियर की अगली पारी में कदम रखने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

मगर अब सवाल ये है की माही अब क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद क्या कर सकते हैं? हालांकि इस बात का जवाब तो फिलहाल एमएस के पास ही होगा, क्योंकि आप अच्छी तरह जानते हैं कि एमएस कब क्या सोचते हैं कोई अंदाजा भी नहीं लगा सकता। मगर कुछ ऐसे पेशे हैं जिनमें माही आगे नजर आ सकते हैं। तो आइए इस आर्टिकल में आपको उन 5 पेशों के बारे में बताते हैं जिन्हें एमएस धोनी संन्यास के बाद अपना सकते हैं।

संन्यास के बाद इन 5 पेशों में नजर आ सकते हैं एमएस धोनी

1- खुद को सेना को समर्पित कर सकते हैं एमएस धोनी

महेंद्र सिंह धोनी ने 17 साल क्रिकेट को दिए लेकिन ये बात हर कोई जानता है की आर्मी एमएस का पहला प्यार है। माही को जब भी वक्त मिला है, वह खुद को देश की सेवा में समर्पित करते आए हैं। माही को 2011 विश्व कप जीतने के बाद लेफ्टिनेंट कर्नल की उपाधि से सम्मानित किया गया।

आईसीसी विश्व कप 2019 के बाद माही ने 2 महीने का ब्रेक लिया था, जिसमें वह 106 टैरिटोरियल आर्मी का हिस्सा बनकर फौज के साथ जुड़े थे। हालांकि क्रिकेट के चलते वह उतना ध्यान सेना पर नहीं दे सके, मगर अब माही बिल्कुल फ्री हैं।

ऐसे में अधिकतर लोगों का व उनके बिजनेस पार्टनर अरुण पांडे का भी ये मानना है कि एमएस निश्चित तौर पर अब सेना को अधिक वक्त देंगे और देश की सेवा में खुद को समर्पित करेंगे। जी हां, इस बात की सबसे अधिक संभावना है की एमएस अब संन्यास के बाद आर्मी के साथ जुड़ें। बताते चलें, एमएस को बलिदान बैज से भी सम्मानित किया जा चुका है।

Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse