Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse

किसी भी खेल में कप्तान और खिलाड़ियों के बीच सामंजस्य का होना बहुत जरूरी है. क्योंकि कप्तान टीम का प्रतिनिधित्व करता है और टीम के अच्छे या बुरे प्रदर्शन में उसकी पूरी जवाबदेही होती है. इसलिए कप्तान अपनी मर्जी की टीम खिलाने के लिए पूरी तरह से स्वतंत्र होता है. कई बार आपने ऐसा देखा होगा कि कप्तान तथा खिलाड़ियों के बीच आपसी खटास रहती है. जिससे कारण कई बार इसका खामियाजा खिलाड़ी को भुगतना पड़ता है.

इसी वजह से खिलाड़ियों को हमेशा कप्तान का प्रिय बनकर रहना पड़ता है. यदि कप्तान और क्रिकेट बोर्ड से किसी भी खिलाड़ी का रिश्ता अच्छा न हो तो उस खिलाड़ी के करियर पर भी बात आ सकती है. इसी कारण आज हम अपने इस विशेष लेख में कुछ ऐसे ही खिलाड़ियों के बारें में बात करेंगे.

जिनका रिश्ता कप्तान तथा क्रिकेट बोर्ड से अच्छा नहीं होने के कारण उस खिलाड़ी का करियर चौपट हो गया. जिसके कारण उस खिलाड़ी को संन्यास लेने पर मजबूर होना पड़ा. इस लिस्ट में पांच खिलाड़ी शामिल है जो अपने दौर में बहुत अधिक प्रतिभाशाली रहे हैं. लेकिन कप्तान तथा क्रिकेट बोर्ड से खटास के कारण उन्होंने समय से पहले ही क्रिकेट को अलविदा कह दिया.

5. केविन पीटरसन

इस लिस्ट में पांचवें स्थान पर इंग्लैंड के आक्रामक बल्लेबाज केविन पीटरसन का नाम आता है.  केविन पीटरसन का करियर भी कप्तान तथा  क्रिकेट बोर्ड के साथ लड़ाई के कारण ही खत्म हुआ था. करियर के अंत में उनके बोर्ड के साथ विवाद बहुत ज्यादा बढ़ गये थे. जिसका नतीजा पीटरसन के करियर के अंत के साथ हुआ.

दरअसल, बोर्ड के साथ पीटरसन का विवाद एशेज सीरीज के दौरान हुआ था. ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इंग्लैंड की टीम को एशेज सीरीज में बहुत ही बुरी तरह से हार का सामना करना पड़ा. जिसके बाद बोर्ड ने उन्हें टीम से बाहर कर दिया था. उस समय उसकी वजह बताई गई थी की टीम अब युवा खिलाड़ियों को खेलने का मौका देना चाहती है.

जिसके कारण अब अनुभवी खिलाड़ियों को बाहर कर रही है. लेकिन मीडिया ख़बरों के अनुसार बाद में पता चला की पीटरसन का कप्तान एंड्रयू स्ट्रास और कोच एंडी फ्लावर के साथ झगड़े हो रहे थे. जिसके कारण उन्हें टीम से बाहर करने का फैसला लिया गया था.

Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse

Ashutosh Tripathi

मैं एक पत्रकार हूँ. पत्रकार ना तो आस्तिक होता है और ना तो नास्तिक होता है बल्कि...