australian captain steve waugh l and his brother mark
Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse

टेस्ट फॉर्मेट से शुरु हुआ क्रिकेट का खेल, वनडे से होता हुआ टी20 तक पहुंच चुका है। मगर आज भी टेस्ट क्रिकेट की अलग ही पहचान है। पांच दिन के इस खेल को क्रिकेट फैंस बेहद पंसद करते हैं।

टेस्ट फॉर्मेट में एक से बढ़कर एक बड़े-बड़े रिकॉर्ड दर्ज हैं। सचिन तेंदुलकर, रिकी पोंटिंग, कुमार संगकारा जैसे खिलाड़ियों ने जहां जमकर रन बनाए हैं, वहीं कुछ खिलाड़ियों के नाम टेस्ट क्रिकेट में शर्मनाक रिकॉर्ड्स भी दर्ज हैं।

क्या आप जानते हैं टेस्ट क्रिकेट में ससे अधिक बार बिना खाता खोले पवेलियन लौटने वाले खिलाड़ियों के बारे में? यदि नहीं, तो इस आर्टिकल में आपको बताते हैं उन 5 खिलाड़ियों के बारे में जो लगातार टेस्ट में सबसे अधिक बार हुए हैं शून्य पर आउट।

लगातार सबसे अधिक बार शून्य पर आउट होने वाले बल्लेबाज

1- बॉब हॉलैंड

RG Holland 1

इस सूची में सबसे पहला नाम ऑस्ट्रेलिया के बॉब हॉलैंड का आता है। बॉब ने 38 साल की उम्र में ऑस्ट्रेलिया के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपना डेब्यू किया था। हॉलैंड पेशे से एक लेग स्पिन गेंदबाज थे और उनके नाम लगातार टेस्ट क्रिकेट में पांच बार शून्य पर आउट होने का शर्मनाक रिकॉर्ड दर्ज है।

साल 1985 में दो बार इंग्लैंड और उसके बाद तीन बार न्यूजीलैंड के खिलाफ बिना खाता खोने पवेलियन लौटे। इंग्लैंड के विरुद्ध हॉलैंड एशेज सीरीज के दौरान डक पर आउट हुए थे।

बॉब हॉलैंड ने 1984 में वेस्टइंडीज के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू किया था और 1986 में भारत के विरुद्ध अपना अंतिम मैच खेला। अपने दो सालों के करियर में उन्होंने कुल 11 टेस्ट मैच खेले हैं और 39.76 की औसत के साथ 34 विकेट लेने में सफल हुए।

Prev1 of 5
Use your ← → (arrow) keys to browse