Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse

जब-जब वीरेंद्र सहवाग का नाम लिया जाता है तो लोगों के जेहन में तूफान, आंधी और प्रलय जैसे शब्द आते हैं. क्योंकि जब सहवाग किसी गेंदबाज को पीटना शुरू करते थे तो उसको इतना पीटते थे कि वो गेंद डालना ही भूल जाता था. गेंदबाजों में सहवाग का खौफ इतना था कि उनकी लाइन और लेंथ और गति सब बिगड़ जाती थी. इसी वजह से सहवाग ने क्रिकेट में वो मुकाम हासिल किया जो विरले ही कर पाते हैं.

सहवाग अब तक 2 तिहरे शतक लगा चुके हैं. दरअसल सहवाग ने अपने करियर का पहला तिहरा शतक ( 304 ) पाकिस्तान के खिलाफ मुल्तान टेस्ट में साल 2004 में बनाया था और उन्होनें इतिहास को एक बार फिर दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ साल 2008 में दोहराया था. चेन्नई में खेले गए इस टेस्ट मैच में सहवाग ने 304 गेंदों में 319 रन की विस्फोटक पारी खेली थी.

सहवाग के इस 319 रनों के रिकॉर्ड को अभी तक कोई भी भारतीय बल्लेबाज तोड़ नहीं पाया है. लेकिन अब जब एकदिवसीय क्रिकेट में 264 बनना मुश्किल नहीं तो आप जल्द ही इस रिकॉर्ड को टूटते हुए जरूर देखेंगे. तो आइए हम आपको बताते हैं अपनी इस स्पेशल स्टोरी में उन 4 बल्लेबाजों के बारें में जो इस रिकॉर्ड को तोड़ने की क्षमता रखते हैं.

4 . पृथ्वी शॉ

भारतीय टेस्ट टीम के विस्फोटक सलामी बल्लेबाज पृथ्वी शॉ इस समय भारतीय टीम के मुख्य सलामी बल्लेबाज हैं. शॉ ने अपनी तूफानी बल्लेबाजी से लगातार सभी को प्रभावित किया है. प्रथ्वी शॉ की बल्लेबाजी में तो वीरू की झलक भी देखने को मिलती है. ऐसा हम नहीं कह रहे हैं दरअसल ऐसा तो पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज वसीम जाफर ने कहा था.

जाफर ने हाल ही में युवा ओपनर पृथ्वी शॉ की जमकर प्रशंसा करते हुए उनकी तुलना ‘नजफगढ़ के नवाब’ यानी पूर्व विस्फोटक ओपनर वीरेंद्र सहवाग से की थी. सलामी बल्लेबाज होने के नाते उनके पास वीरेंद्र सहवाग का विश्व रिकॉर्ड तोड़ने के ज्यादा अवसर भी मिलेंगे. देश के लिए अभी तक खेले 4 टेस्ट मैचों में 55 की औसत के साथ शॉ 335 रन बना चुके हैं.

टेस्ट में उनके नाम पर एक शतक और दो अर्द्धशतक दर्ज है. फर्स्ट क्लास क्रिकेट में पृथ्वी शॉ का सबसे बढ़िया प्रदर्शन 188 रन का रहा है. इसी कारण यह खिलाड़ी हमारी इस सूची में नंबर 4 पर मौजूद है.

Prev1 of 4
Use your ← → (arrow) keys to browse