Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse

भारत ही क्या दुनिया के सभी क्रिकेट प्रेमी देशों में टी-20 लीग अपनी पकड़ मजबूत कर चूका है. क्रिकेट में पहली बार जब टी-20 फ़ॉर्मेट की जब शुरुआत हुआ था, तब भारत और भारतीय खिलाड़ी इसे खेलने के पक्ष में नहीं थे. भारतीय टीम ने काफी समय तक किसी द्विपक्षीय सीरीज में टी-20 क्रिकेट नही खेला, लेकिन जब आईसीसी ने टी-20 विश्व कप की शुरुआत की तो भारतीय खिलाड़ियों को ये सीरीज खेलनी पड़ी.

भारत ने न सिर्फ टी-20 विश्व कप खेला बल्कि पहला ख़िताब भी जीता, जिसकी वजह से भारत में आईपीएल की शुरुआत हुई, इसके अलावा भारत को दुनिया का सबसे मजबूत और विश्व विजेता कप्तान धोनी के रूप में मिला. हालाँकि टी-20 क्रिकेट जब शुरू हुआ तो कुछ भारतीय खिलाड़ियों का शरीर इसके लिए पूरी तरह तैयार नहीं था. इसी वजह से उन्होंने पहला टी-20 ही खेल युवा खिलाड़ियों के लिए रास्ता खोल दिया.

आज हम कुछ ऐसे ही भारतीय खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनका पहला ही टी-20 आखिरी साबित हुआ.

3. राहुल द्रविड़

इस सूचि में सबसे अंतिम नाम दीवार के नाम से मशहुर राहुल द्रविड़ का आता है. भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ भी देश के लिए मात्र एक ही ट्वेंटी-20 मैच खेल सके. साल 2011 में राहुल द्रविड़ ने यह एकमात्र टी-20 मैच इंग्लैंड के विरुद्ध खेला था.

इंग्लैंड और भारत के यह मुकाबला मैनचेस्टर के मैदान पर खेला गया था और इस मैच में राहुल द्रविड़ ने मात्र 21 गेंदों में 31 रनों की तेज तरार पारी खेली थी. राहुल द्रविड़ ने अपनी इस पारी में समित पटेल के एक ओवर में लगातार तीन छक्के भी जड़े थे.

यह राहुल द्रविड़ के मैच का पहला और अंतिम टी-20 था, इस मैच के शुरू होने से पहले ही राहुल द्रविड़ सिमित ओवर के खेल से संन्यास का ऐलान कर चुके थे.

Prev1 of 3
Use your ← → (arrow) keys to browse