10 40 334570663world ll

टीम इंडिया ने 2011 में कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की अगुवाई में दूसरी बार वर्ल्डकप जीतकर दुनिया भर में अपने नाम का परचम लहराया था. इस जीत में शामिल सभी खिलाडियों को फैंस आजतक पलकों पर बिठाये हुए हैं. लेकिन अब जो ख़राब आ रही है ये किसी भी लिहाज से क्रिकेटप्रेमियों के लिए अच्छी नहीं हो सकती. दरअसल, मीडिया रिपोर्ट्स की माने तो वर्ल्डकप फ़ाइनल में एक भारतीय खिलाड़ी ने मैच फ़िक्स किया था हालांकि यह मैच भारत फिर भी जीत गया.
indflaggi
यह खबर आने के बाद इस विषय पर जांच शुरू हो गयी है लेकिन अभी तक स्पष्ट रूप से नाम का खुलासा नहीं हो पाया है. बताया जा रहा है कि टीम इंडिया के एक खिलाड़ी पर आरोप है कि उसका मैच फिक्सिंग सिंडिकेट से लिंक है. बता दें कि इस मैच फिक्सिंग सिंडिकेट ने पिछले साल जुलाई में राजस्थान के जयपुर में एक डोमेस्टिक T20 टूर्नामेंट भी आयोजित करवाया था.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के अनुसार सबसे पहले यह राजपूताना प्रीमियर लीग (आरपीएल) BCCI के एंटी करप्शन सिक्योरिटी यूनिट के रडार पर आई थी. अब इस मामले में राजस्थान पुलिस की सीआईडी टीम जांच कर रही है. रिपोर्ट के मुताबिक आरपीएल में क्लब क्रिकेटरों ने भाग लिया था और इसका सीधा प्रसारण Neo Sports पर किया गया था.

कई लीग पर उठे सवाल

बीसीसीआई और पुलिस के जांच के घेरे में आरपीएल जैसे कई डोमेस्टिक टी-20 लीग आए हैं. जांच करने वाली टीम के अनुसार यह लीग रिएलिटी शो की तर्ज पर टूर्नामेंट करवा रहे हैं. साथ ही अंपायर, प्लेयर और ऑर्गनाइजर बुकीज के साथ मिलकर इन लीग में मैच फिक्सिंग को अंजाम दे रहे हैं.

इन लीगों में मैच फिक्सिंग को सही तरह से अंजाम देने के लिए स्पॉटर और हैंडलर भी मौजूद रह रहे हैं. स्पॉटर बुकीज से मिली जानकारी को अंपायर के साथ वॉकी टॉकी की मदद से साझा करता है और फिर अंपायर उसे प्लेयर के साथ.

फाइनल फिक्स होने का लगा था आरोप

2011

आपको बता दें कि श्रीलंका के वर्ल्ड कप विजेता कप्तान अर्जुन राणातुंगा ने 2011 क्रिकेट वर्ल्ड कप फाइनल के फिक्स होने का आरोप लगाया था. उन्होंने दावा किया था कि मुंबई में भारत और श्रीलंका के बीच हुआ वर्ल्ड कप फाइनल मैच फिक्स था और इस मामले की जांच की मांग की थी. हालांकि वर्ल्ड क्रिकेट के दिग्गजों और खिलाड़ियों ने उनके आरोप को बस श्रीलंका की हार की निराशा बताया था. साथ ही कई लोगों ने बिना सबूत इस तरह के आरोप लगाने पर उनकी आलोचना भी की थी.

Anurag Singh

लिखने, पढ़ने, सिखने का कीड़ा. Journalist, Writer, Blogger,

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *