116044 pink ball

इस वक्त अगर इंग्लैंड में क्रिकेट की बात की जाए तो सबकी नजर भारत और इंग्लैंड के बीच चल रहे टेस्ट श्रृंखला पर होगी।एक तरफ जहाँ हालही इंग्लैंड ने 1000 टेस्ट मुकाबला खेल क्रिकेट जगत को खुशी दी वहीं दूसरी तरफ कुछ ऐसा शर्मनाक हो गया। दरअसल समरसेट क्रिकेट लीग के दौरान एक बार फिर गेंदबाज ने बल्लेबाज को गलत खेल भावना से शतक मारने से रोक दिया।

NmtkGANXII
PIC CREDIT: WAH CRICKET

इस तेज गेंदबाज ने बीमर मार गेंद को बल्लेबाज के ऊपर से पीछे वाली बाउंड्री तक पहुंचा दिया। खेल भावना से खिलवाड़ करने के लिए इस गेंदबाज पर 9 मुकाबलों का प्रतिबंद लगा दिया गया है।

दरअसल माइनहेड के बल्लेबाज जे डैरेल जब 98 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे तभी पर्नेल सीसी के गेंदबाज़ ने एक बीमर फेंकी जो की नो बॉल होती हुई बाउंड्री पार चली गई। जिसकी वजह से माइनहेड टीम तो जीत गई लेकिन उनके बल्लेबाज जे शतक पूरा नहीं कर सके। पर्नेल सीसी के गेंदबाज की इस हरकत को खेल भावना के खिलाफ देखा जा रहा है।

समरसेट क्रिकेट लीग ने इस बात पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है “इस तरह की हरकत समरसेट क्रिकेट लीग और क्रिकेट को बदनाम करती हैं। इसके साथ समरसेट क्रिकेट लीग ने इस गेंदबाज पर जांच के बाद नौ मैचों का बैन लगा दिया है। ”

बाद में माइनडेट टीम ने भी बाद में ट्वीट कर कहा कि “इस तरह की घटना अच्छी नहीं है। जिसके बाद पर्नेल टीम के कप्तान ने भी गेंदबाज की तरफ से बल्लेबाज से इस प्रकरण के लिए माफी मांगी हैं। साथ ही उन्होंने कि इस तरह की चीज़ें नहीं होनी चाहिए। ”

जिस बल्लेबाज के साथ ऐसा हुआ है उसका कहना है कि “ये शर्मनाक है जिस तरह से चीज़ें खत्म हुई, लेकिन ठीक है। ”

2017 में पोलार्ड ने भी की थी यह हरकत

सितम्बर 4, 2017 को पोलार्ड ने कॅरीबीयन प्रीमियर लीग के एक मैच के दौरान नो बॉल फेंक एविन लेविस को दूसरा सबसे तेज शतक मारने से रोक दिया था। खेल की भावना का अपमान करने के लिए काफी चर्चे में रहे थे पोलार्ड।

अपने ही वेस्ट इंडीज टीम के खिलाड़ी के साथ पोलार्ड ने ऐसा किया था। एविन लेविस 97 रन पर नाबाद थे और स्ट्राइक पर मौजूद थे। जीत के लिए उनकी टीम को मात्र 1 रन की दरकार थी और पोलार्ड ने नो बॉल फेंक दिया।

b
pic credit: india times

 

सेहवाग भी हो चुके हैं गलत खेल भावना का शिकार

120743.2
pic credit : AFP

ऐसा ही भारत के सलामी बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग के साथ श्रीलंका दौरे पर हुआ था। अब तक अपने एकदिवसीय करियर में एक भी नो बॉल न फेंकने का रिकॉर्ड रखने वाले श्रीलंकाई गेंदबाज सूरज रणदीव ने खेल भावना का मजाक बनाते हुए यह किया था। सहवाग 99 पर खेल रहे थे और टीम को जीत के लिए 1 रन की दरकार थी। सूरज की गेंद पर सहवाग ने छक्का जड़ बल्ला सेंचुरी के पूरा होने पर उठाया तो अंपायर ने बताया की यह सिक्स काउंट नहीं होगा, क्यूंकि नो बॉल फेंकी गई हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.